घर में ही छापते थे नकली नोट

मेवात में पुलिस ने एक करोड़ की जाली करंसी संग दो युवक  किए गिरफ्तार, छानबीन में जुटी खाकी

गुरुग्राम -मेवात के दो युवकों से बरामद 1 करोड़ 20 लाख रुपए के नकली नोट मामले में पुलिस आरोपितों के गांव में कुंडली खंगाल रही है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि दोनों घर पर ही लैपटॉप, स्कैनर व प्रिंटर के जरिए नोटों की छपाई करते थे। एक युवक के घर पर छपाई का काम होता था। दोनों मिलकर नकली करंसी को 40 लाख में बेचने की फिराक में थे। इनमें एक वेल्डिंग का काम करता है, जबकि दूसरा बीएससी का छात्र है। उधर, गुरुवार को कोर्ट में पेश कर सात दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। दोनों से यह पता लगाया जा रहा है कि ये कब से इस धंधे में शामिल हैं और कितनी करंसी बेच चुके हैं। नेशनल इंटेलिजेंस एजेंसी (एनआईए) की टीम ने बुधवार देर रात सेक्टर-48 स्थित सेंट्रल पार्क टू के पास इंडियन ऑयल पंप के सामने छापा मारकर एक करोड़ 20 लाख रुपए की नकली करंसी बरामद की। बरामद की गई नकली करंसी में दो-दो हजार रुपए के नकली नोट थे। एनआईए के टीम ने दो लोगों को गिरफ्तार कर सदर थाने में मामला दर्ज करवाया। सूत्रों का कहना है कि एनआईए को सूचना मिली थी कि मेवात से दो लोग नकली नोटों की बड़ी खेप की डील करने गुड़गांव आ रहे हैं। बैग में 2-2 हजार रुपए के  एक करोड़ 20 लाख रुपए कीमत के नोट थे। आरोपितों की पहचान मेवात पुन्हाना के गांव नई निवासी वसीम व गांव सिंगार निवासी कासिम के तौर पर हुई। एजेंसी के इंस्पेक्टर विश्वदेव की शिकायत पर दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 489बी व 34 के तहत सदर थाना में एफआईआर दर्ज की गई है। सूत्रों की मानें तो आरोपितों को 40 लाख रुपए में नकली करंसी बेचनी थी। मोबाइल कॉल पर इनकी डील एक व्यक्ति से तय हुई थी। उससे इन्हें सोहना रोड पर मिलना था। सदर थाना प्रभारी दलबीर ने बताया कि आरोपितों को पूछताछ के लिए सात दिन के रिमांड पर लिया गया है। रुपए कहां छापे, कहां से लाए व किसे बेचते थे, ये सभी बातें आगामी पूछताछ में सामने आएगी।

You might also like