घुमारवीं में दरिंदगी…घर आ रही छात्रा को उठाने की कोशिश

घुमारवीं—घुमारवीं थाना के तहत पड़ने वाले एक गांव में स्कूल से घर जा रही नाबालिग छात्रा की दिन-दिहाड़े दो अज्ञात दरिंदों ने अपहरण का प्रयास किया। दरिंदों ने मासूम बच्ची की वर्दी फाड़ दी तथा उसके शरीर पर खरोचें भी आई हैं। मासूम को दरिंदों से एक राहगीर ने छुड़वाया। छात्रा के चिल्लाने से वहां पर लोग एकत्रित हो गए। शोर सुनकर छात्रा को अगवा करने का प्रयास कर रहे दोनों अज्ञात युवक वहां से फरार हो गए। लोगों ने छात्रा के परिजनों को इसकी सूचना दी। बेटी के साथ दिन-दिहाड़े हुई इस घटना से इलाके में हड़कंप मच गया। लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। दरिंदों को ढूंढने के लिए लोग घरों से निकल गए, लेकिन उनका कोई अता-पता नहीं चल पाया। पुलिस ने नाबालिग छात्रा की मां की शिकायत पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि घटना को अंजाम देने वाले युवकों के पास कोई वाहन नहीं था। दोपहर में इलाका सुनसान होने के कारण दरिंदों ने नाबालिग छात्रा को अगवा करने का प्रयास किया, लेकिन शोर मचते ही अज्ञात युवक वहां से फरार हो गए। पुलिस को दी शिकायत में नाबालिग छात्रा की मां ने बताया कि उसकी दो बेटियांं राजकीय स्कूल में पढ़ती है। दोपहर के समय छुट्टी होने के बाद उसकी दस साल की छोटी बेटी पैदल ही घर आ रही थी। इस दौरान दोपहर के समय अज्ञात लोगों ने उसकी नाबालिग बेटी के अपहरण का प्रयास किया। उनकी बेटी को उन दरिंदों से एक राहगीर ने छुड़ाया। जब यह घटना हुई, तो उस समय वह घर से कहीं बाहर थी। उन्हें पड़ोस के लोगों ने फोन से उन्हें सूचित किया। जब वह घर पहुंची, तो उनकी बेटियों ने घटना के बारे में बताया। शिकायतकर्ता ने पुलिस से उनकी नाबालिग बेटी को अगवा करने का प्रयास करने वाले अज्ञात युवकों को गिरफ्तार करने की मांग की है। पुलिस ने महिला की शिकायत पर मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। उधर, डीएसपी राजेंद्र जसवाल ने बताया कि छानबीन जारी है।  

खुलकर सामने नहीं आ रहा मददगार

नाबालिग छात्रा की मदद करने वाला मददगार खुलकर सामने नहीं आ रहा है। इससे मासूम बच्ची का अपहरण करने का प्रयास करने वाले अज्ञात युवकों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। यदि मददगार सामने आ जाए, तो उनको पहचान कर उन्हें ढूंढने में पुलिस की मदद कर सकता है। संवदेनशील मामला होने के कारण पुलिस भी कई लोगों से पूछताछ कर रही है।

You might also like