चंडीगढ़ को सता रही प्यास

नगर निगम के पास आई 500 शिकायतों में लोगों ने की टैंकरों से पानी पहुंचाने की अपील

चंडीगढ़ – चंडीगढ़ शहर इन दिनों पानी के संकट से जूझ रहा है। पानी की कमी का अंदाजा यहीं से लगाया जा सकता है कि निगम के शिकायत केंद्र पर करीब 500 शिकायतें दर्ज हो चुकी थी, जहां टैंकरों से पानी पहुंचाएं जाने की मांग की गई थी। निगम के शिकायत केंद्र पर तैनात जेई विनोद कुमार का कहना था कि निगम के पास अपने 13 टैंकर हैं व इन दिनों लोगों की डिमांड पूरी करने के लिए कुछ निजी टैंकर भी किराये पर लिए गए हैं। चंडीगढ़ में कुछ सेक्टर तो ऐसे हैं, जहां पहली और दूसरी मंजिल अप्रैल के बाद से पानी नहीं पहुंच पाया है। ओवरहैड टैंक भी इन सेक्टरों में टैंकरों से ही भरवाने पड़ते हैं। ऊपरी मंजिल पर रहने वाले लोग भू-तल से पानी की बाल्टियां ले रहे हैं। पानी की आपूर्ति को सामान्य बनाने में लगे एसडीओ जगदीश ने कहा कि उनका प्रयास रहता है कि जहां से भी टैंकर की डिमांड आए उसे तुरंत पूरा किया जाए। उल्लेखनीय है कि चंडीगढ़ में अतिरिक्त पानी लाना पिछले लोकसभा चुनावों में एक बड़ा मुद्दा था, क्योंकि सांसद किरण खेर ने निवासियों को आश्वासन दिया था कि चुनाव के बाद शहर को अधिक पानी मिलेगा। कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि साइट पर काम पूरा समय पर नहीं हो रहा। अतः बार बार शहर को अतिरिक्त पानी पहुंचाए जाने की तिथियों में बदलाव होता रहा। रजौली वाटर वर्कस के फेस-पांच व छह से अतिरिक्त पानी लाने के काम में हो रही देरी के मामले में पिछले दिनों चंडीगढ़ के प्रशासक को हस्तक्षेप करना पड़ा व रेलवे की ओर से हो रही देरी पर उन्होंने सख्त रवैया अपनाया था। उन्होंने रेलवे को 10 दिन में पाइपों की रिपेयर करने को कहा था। नगर निगम के आयुक्त केके यादव ने बताया कि कजौली वॉटर सप्लाई स्कीम के फेज पांच व छह का काम लगभग पूरा होने की कगार पर है।

क्या कहते हैं महापौर राजेश कालिया

महापौर राजेश कालिया ने कहा है कि पानी की कमी की वे स्वयं मॉनिटरिंग कर रहे हैं। पिछले दिनों भी वह एक गांव में स्वयं टैंकर लेकर गए थे। उनका कहना था कि शहर में पानी की कमी नहीं होने दी जाएगी।

You might also like