चंबा में सैलानियों को पार्किंग की सजा

चंबा —धौलाधार ओर पीरपंजाल की मनमोहक पर्वत शृंखला के आंचल में बसे ठंडक व कुदरती आभा से लबालब पहाड़ी जिला चंबा के पर्यटन स्थल इन दिनों बुरी तरह जाम में पिस रहे हैं। प्रकृति की अदभुत छटा को संजोय इन पर्यटन स्थलों मेेें पार्किंग की भरपूर एवं उचित व्यवस्था न होने से टूरिस्ट सीजन के दौरान बढ़ रही पर्यटकों की तादात से सड़कांे पर आ रही गाडि़यांे की बाढ़ के आगे टै्रफिक व्यवस्था पूरी तरह से डगमगा रही है। हरियाणा, पंजाब, उतराखंड, दिल्ली व यूपी सहित अन्य मैदानी राज्यों में मई माह से ही पड़ रही लू बरसाने वाली गर्मी से बचने के लिए लोग देवभूमि हिमाचल की वादियों मंे पहुंच रहे है। लिहाजा वीकेंड एवं छुट्टियों के दिनों में पर्यटक  स्थलों पर सैलानियों की भारी भीड़ जुट रही है। पहाड़ की ठंडी वादियों में बने पर्यटक स्थलों पर हर रोज पहुंच रही हजारों की तादाद में छोटी से बड़ी गाडि़यों को पार्क करने के लिए उचित स्थान न मिल पाने से सड़कों पर गाडि़यों की लंबी कतारे लग रही हैं।

 कब मिलेगा जाम से छुटकारा

मिनी स्विट्जरलैंड के नाम से दुनियाभर में मशहूर खजियार के अलावा लॉर्ड डलहौजी के शहर डलहौजी में इन दिनों सैलानियों सहित आम जन को हर रोज जाम में पिसना पड़ रहा है। इसके अलावा जिला मुख्यालय चंबा में तो हर रोज यह समस्या विकराल होती जा रही है। बाहरी प्रदेशों के अलावा हिमाचल एवं  जिला के दुर्गम क्षेत्रों से जिला मुख्यालय पहुंच रहे हर शख्स के जहन में पार्किंग समस्या का प्रश्न है।  अब औपचारिकताओं में उलझे इन पार्किंग स्थलों के शुभारंभ के लिए कब मुहूर्त निकलेगा, इसे बुद्धिजीवी वर्ग से लेकर अवाम भी समझ से परे बता रहे हैं।

चंबा में पार्किंग की सबसे बड़ी दिक्कत

चंबा शहर के सुराड़ा मोहल्ला के एसबीआई से सेवानिवृत्त मनजीत सिंह जसरोटिया ने बताया कि चंबा में पार्किंग की सबसे बड़ी समस्या है। सरकार व प्रशासन द्वारा काई हल न निकाल पाने से सैलानियों संग आमजन को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि अगर पुराने बस स्टैंड की जगह मल्टीपर्पस पार्किंग का निर्माण किया जाए तो काफी हद तक लोगों को राहत मिल सकती है।

गाड़ी खड़ी करने को चक्कर पर चक्कर

करोबारी रवि ठाकुर का कहना है जिला मुख्यालय चंबा में पर्किंग की समस्या मेजर समस्या बन गई है। हर रोज हजारों की संख्या में जिला मुख्यालय पहुंच रही गाडि़यों को पार्क करने लिए जगह न मिलने सड़के जाम में पिस रही है, जिससे वाहन चालक सहित राहगीर भी परेशान हो रहा है। गाड़ी पार्क करने के लिए जगह न मिलने से सैलानी गाड़ी में शहर का चक्कर लगा कर रहा पकड़ रहा है। लिहाजा करोबारी को भी निराशा हाथ लग रही है।

ऊबड़-खाबड़ सड़कों से भी दिक्कत

स्थानीय निवासी मनीष कुमार का कहना है कि जिला मुख्यालय की ऊबड़-खाबड़ भरी सड़कों के अलावा शहर मंे बढ़ी टै्रफिक सबसे बड़ी समस्या बन गई है। सरकार एवं प्रशासन को इन समस्याओं के हल के जल्द उचित कदम उठाने चाहिए, ताकि टूरिस्ट को बढ़ावा मिले ओर बेरोजगारों को रोजगार मिल सके।

पुराने बस स्टैंड पर पार्किंग की डिमांड

जिला मुख्यालय चंबा में पुराने बस स्टैंड की जगह मल्टीपर्पस पार्किंग निर्माण को लेकर कई सामाजिक संगठन, एसोसिएशन, यूनियन व स्थानीय जनता के अलावा व्यापारी क रोबारी मांग कर चुके हैं। लेकिन अभी तक इस पर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई। उधर, जिला मुख्यालय चंबा में एसपी कोठी के साथ पार्किंग निर्माण के लिए जगह का भी चयन कर लिया गया था बावजूद इसके अभी तक कार्य शुरू नहीं हो पाया है। 

You might also like