चंबा मेडिकल कालेज से 28 मुलाजिम आउट

चंबा—पंडित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालेज में कार्यरत 28 आउटसोर्स कर्मचारियों की सेवाओं को समाप्त कर कंपनी प्रबंधन ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इस कार्रवाई को अमल में लाने से कंपनी की ओर से कर्मचारियों को कोई नोटिस भी जारी नहीं किया गया है। शनिवार को कंपनी प्रबंधन की इस कार्रवाई की जद में आए आउटसोर्स कर्मचारियों में वार्ड ब्वाय और माली शामिल हैं। ये सभी आउटसोर्स कर्मचारी पिछले डेढ वर्ष से मेडिकल कालेज में सेवाएं दे रहे थे। कंपनी प्रबंधन की एकाएक इस कार्रवाई से मेडिकल कालेज में कार्यरत आउटसोर्स कर्मचारियों में हडकंप मच गया है। सूत्रों के अनुसार चंबा मेडिकल कालेज में मौजूदा समय में 270 के करीब आउटसोर्स कर्मचारी विभिन्न विभागों में सेवाएं दे रहे हैं, जिनमें 28 कर्मचारियों को शनिवार को निकाल दिया गया है, जबकि दस के करीब पहले ही निकालेे जा चुके है। सूत्रों ने बताया कि अभी तक साठ और आउटसोर्स कर्मचारियों की छंटनी होनी है। इसके बाद मेडिकल कालेज में 170 आउटसोर्स कर्मचारियों की सेवाएं ही ली जाएंगी। इसी बीच मेडिकल कालेज प्रबंधन की ओर से तर्क दिया जा रहा है कि इन कर्मचारियों की भर्तियां ऐसी पोस्ट पर हुई हैं, जिनकी फिलहाल अभी कोई आवश्यकता नहीं है। मेडिकल कालेज में पहले ही जरूरत से ज्यादा आउटसोर्स कर्मचारी कार्यरत हैं। बहरहाल, शनिवार को कंपनी प्रबंधन की कार्रवाई के चलते 28 आउटसोर्स कर्मचारियांे को नौकरी से हाथ धोना पडा है। उधर, मेडिकल कालेज चंबा के प्रिंसीपल डा. पीके पुरी का कहना है कि मामला ध्यान में है । 20 केयर टेकर की पोस्ट पर 46 को भर्ती किया गया है, जबकि माली की चार पोस्ट पर 28 लोगों को रखा गया है। सरप्लस कर्मचारियों को निकालने के लिए पहले से ही सरकार के आदेश आ गए थे।

You might also like