चप्पे-चप्पे पर रहेगी पुलिस की नजर

शिमला—शिमला में सोमवार से अंतर्राष्ट्रीय ग्रीष्मोत्सव शुरू होने जा रहा है। इस दौरान बाहर से आने वाले पर्यटकों के साथ शिमला शहर व शिमला जिला के लोग इसका पूरा आनंद उठाते हैं। बड़ी संख्या में यहां पर लोगों का जमावड़ा रहता है और चार दिन तक चलने वाले इस ग्रीष्मोत्सव की खूब धूम रहती है। इसके लिए शिमला पूरी तरह से तैयार है। जिला प्रशासन ने रिज पर आयोजन की तैयारियां कर ली हैं और स्टेज भी सज गया है। सोमवार को दोपहर बाद से यहां रंगारंग कार्यक्रमों का दौर शुरू हो जाएगा जिसमें लोगों के मनोरंजन के लिए बाहर से भी कलाकार आएंगे। ऐसे में जब ग्रीष्मोत्सव का मंच सजा होगा तो यहां भारी भीड़ को ध्यान में रखकर सुरक्षा के भी पूरे इंतजाम होने जरूरी हैं। शिमला पुलिस ने इन इंतजामों को अंजाम दे दिया है। एक पूरा प्लान इसके लिए तैयार किया गया है जिसके तहत 225 पुलिस जवानों को तैनाती दी जाएगी। इन सभी का इनकी डयूटियां समझा दी गई हैं और बताया गया है कि वह पूरे फेस्टिवल में किस तरह से सुरक्षा का जिम्मा संभालेंगे। 225 जवानों को शहर में अलग-अलग सैक्टर में बांटा गया है। इस दौरान ट्रैफिक नियंत्रण के लिए भी विशेष इंतजाम रहेंगे।  छोटा शिमला, बालूगंज व ढली पुलिस के पास विशेष जिम्मा रहेगा। खुद एसपी शिमला ग्रीष्मोत्सव के दौरान मौके पर रहेंगे वहीं एएसपी व डीएसपी सिटी का रिज पर आयोजन स्थल की सुरक्षा की जिम्मेदारी होगी। रिज पर इस दौरान भारी भीड़ रहती है जहां पर पुलिस चप्पे-चप्पे पर रहेगी और  जो कोई भी हुड़दंग करता हुआ पाया गया उसे हवालात की सैर करवाई जाएगी। पुलिस ने तय किया गया है कि हुड़दंगियों को किसी भी सूरत बख्शा नहीं जाएगा। यहां करीब आधी रात तक सुरक्षा के इंतजाम रहेंगे। वैसे कार्यक्रम 10 बजे तक खत्म हो जाता है लेकिन गंतव्यों तक लोग देरी से ही पहुंचते हैं। शहर के अलग-अलग स्थानों से आने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए सभी जगहों पर वहां के संबंधित पुलिस थानों द्वारा पुलिस का इंतजाम रखा जाएगा। इन पुलिस थानों व चौकियांे से विशेष रूप से कर्मचारियों को इस डयूटी पर रखा जाएगा जिसके निर्देश दिए गए हैं। शिमला ग्रीष्मोत्सव जिला प्रशासन का एक बड़ा आयोजन रहता है जिसमें कई वीवीआईपी पहुंचते हैं। राज्यपाल इसका उदघाटन करते हैं वहीं मुख्यमंत्री समापन पर पहुंचते हैं। इस लिहाज से भी यहां पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी होगी।

You might also like