चरस तस्कर को चार साल कैद

चंबा –विशेष जज कम जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंबा राजेश तोमर की अदालत ने पृथ्वी राज पुत्र सोभिया वासी गांव जैथल पोस्ट आफिस संघणी तहसील सलूणी को चरस तस्करी के आरोप में दोषी करार देते हुए चार वर्ष की कैद व बीस हजार रूपए जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना न अदा करने की सूरत में दोषी को छह माह का अतिरिक्त कारवास भोगना पडेगा। अभियोजन पक्ष की ओर से मुकदमे की पैरवी जिला न्यायवादी विजय रेहालिया ने की। अभियोजन पक्ष के मुताबिक सोलह अक्तूबर 2015 को पुलिस की एसआईयू सैल की टीम ने सलूणी मार्ग पर धारगला के पास बरोटी में नाका लगा रखा था। इसी दौरान बरोटी की ओर से हाथ में बैग पकडकर पैदल आ रहा एक व्यक्ति पुलिस टीम को देखकर घबरा भागने का प्रयास करने लगा। पुलिस टीम को व्यक्ति की गतिविधियों पर संदेह होने पर तुरंत हरकत में आते हुए धर दबोचा। पुलिस की पूछताछ में व्यक्ति ने अपनी पहचान पृथ्वी राज वासी गांव जैथल के तौर पर बताई। पुलिस की पूछताछ के शक के आधार पर पृथ्वी राज के बैग की तलाशी लेने दौरान आठ सौ ग्राम चरस बरामद की। पुलिस ने पृथ्वी राज के खिलाफ चरस तस्करी को लेकर किहार थाना में मामला दर्ज किया। बाद में पुलिस ने मामले से जुडी कागजी औपचारिकताएं पूरी कर चालान आगामी कार्रवाई हेतु अदालत में दायर कर दिया। अदालत में अभियोजन ने 14 गवाह पेश कर पृथ्वी राज पर लगे चरस तस्करी के आरोप को साबित किया। अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद पृथ्वी राज को चरस तस्करी का दोषी पाते हुए चार वर्ष की कैद व 20 हजार जुर्माने की सजा सुनाई है।

 

You might also like