छात्रों का भविष्य संवार रहा गलगोटिया विश्वविद्यालय

नई दिल्ली – गलगोटिया विश्वविद्यालय ने उभरती हुई अत्याधुनिक तकनीक के हिसाब से अपने सभी पाठ्यक्रम (क्यूरिकलम) को अपडेट किया है, जिसका फायदा यह है कि इंडस्ट्री की मांग के मुताबिक विद्यार्थियों की योग्यताएं विकसित होती हैं। अत्याधुनिक व अत्यंत नवीन तकनीक के अनुसार शिक्षा ग्रहणकरने वाले विद्यार्थियों को प्लेसमेंट में अन्य छात्रों के मुकाबले प्राथमिकता मिलती है। इतना ही नहीं गलगोटिया विश्वविद्यालय ने अत्याधुनिक पाठ्यक्रम को ध्यान में रखते हुए विद्यार्थियों को उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से फैकल्टी में भी आमूलचूल बदलाव किए हैं। जरूरत के मुताबिक विदेशी शिक्षकों को भी विवि में नियुक्त किया गया है। गलगोटिया विश्वविद्यालय की तरफ से पाठ्यक्रम के मुताबिक लैब को भी अपग्रेड किया गया है। आवश्यकतानुसार कई नए लैब भी स्थापित किए गए हैं। विश्वविद्यालय में एबेट के मुताबिक सर्वोत्कृष्ट शिक्षण कार्य किया जाता है। विश्वविद्यालय में आउट कम बेस्ड शिक्षण परविशेष ध्यान दिया जा रहा है। विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम से संबंधित एक-एक जानकारी दी जाती हैए जिससे वह परीक्षाओं व प्रैक्टिकल के दौरान काफी सहज रहते हैं। अत्याधुनिक पाठ्यक्रम, विश्वस्तरीय शिक्षण कार्य व उम्दा प्लेसमेंट केबलबूते गलगोटिया विश्वविद्यालय इंडिया टुडे, जागरण जोश व टाइम्स समेततमाम एजेंसियों द्वारा टॉप शिक्षण संस्थान के तौर पर पुरस्कृत हो चुका है।

You might also like