छात्रों में अच्छे संस्कार पैदा करें अध्यापक

सोलन—अध्यापक औपचारिक अध्यापन के अलावा अनौपचारिक अध्यापन के माध्यम से बच्चों में अच्छे संस्कार व सद्गुण पैदा कर सकते हैं। यह उद्गार सोमवार को सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता व सहकारिता मंत्री डा. राजीव सहजल ने कसौली विधानसभा क्षेत्र की  ग्राम पंचायत जाबली में दस लाख  रुपए की लागत से राजकीय माध्यमिक विद्यालय कोटी के नवनिर्मित भवन के लोकार्पण अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि इस दिशा में अभिभावकों को भी अपनी जिम्मेदारी का निरंतर निर्वहन करते रहना चाहिए। डा. सहजल ने कहा कि जन्म से कोई भी व्यक्ति योग्य अथवा अयोग्य नहीं होता है बल्कि सही अवसर और वातावरण के माध्यम से कोई भी व्यक्ति जीवन में कामयाबी हासिल कर सकता है। उन्होंने कहा कि यद्यपि समूचा विश्व आज भारत देश की संस्कृति, खान-पान व रहन-सहन का अनुसरण कर रहा है, इसके बावजूद आज युवा पीढ़ी पश्चिमी सभ्यता के अनुरूप खान-पान, रहन-सहन तथा विचार- व्यवहार का अनुसरण कर रही है। उन्होंने कहा कि आज की युवा पीढ़ी बड़ों का सम्मान करना व अन्य नैतिक कर्त्तव्यों से दूर होती जा रही है। उन्होंने कहा कि बच्चे जीवन में संकल्प लें कि वे कभी भी अपने जीवन में नशे का प्रयोग नहीं करेंगे और न ही अन्य किसी को इसके लिए प्रोत्साहित करेंगे।

You might also like