जंगलों को आग से बचाएं

 राजेश कुमार चौहान, सुजानपुर टीहरा

हिमाचल प्रदेश की हरियाली और वन संपदा विदेशों तक मशहूर है, लेकिन कुछ लोग गर्मियों में बेकार की घास-फूस जलाने के लिए जंगलों या खेतों में आग लगा देते हैं, जिससे कई वृक्ष भी आग की बलि चढ़ जाते हैं। यह प्रदेश की हरी-भरी वादियों के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। लोगों को चाहिए कि अगर वे खेतों से फालतू घास जलाना चाहते हैं, तो इस बात का ख्याल रखें कि यह आग खेतों के साथ लगते जंगलों में न फैले। प्रदेश की हरी-भरी वादियों को किसी भी हाल में नष्ट नहीं करना है, क्योंकि यही वन संपदा हमें प्रकृति की तरफ से मिला अमूल्य उपहार है।

 

You might also like