जीडीपी आंकड़ों पर सवालों का देंगे जवाब

नई दिल्ली – प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (पीएमईएसी) ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़े बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमणियम के आरोपों को बुधवार को खारिज कर दिया। परिषद ने कहा कि वह जल्दी ही आरोपों का बिंदुवार उत्तर देगी। एक समाचार एजेंसी के मुताबिक सुब्रमणियम ने एक शोधपत्र में दावा किया था कि जीडीपी की गणना के तरीके में बदलाव के कारण 2011-12 से 2016-17 के बीच भारत की आर्थिक वृद्धि के आंकड़े को करीब 2.50 प्रतिशत बढ़ाकर दिखाया गया है। परिषद ने एक बयान में कहा कि वह सुब्रमणियम के आकलन को विस्तार से देखेगी और बिंदुवार उत्तर लेकर सामने आएगी। परिषद ने कहा कि अभी के समय में उचित अकादमिक बहस के मुद्दे को सनसनी बनाने की किसी कोशिश में उलझना भारतीय सांख्यिकी प्रणाली की गुणवत्ता और स्वतंत्रता को बचाए रखने के लिए उचित नहीं है। इन सब से पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार भी अच्छे से परिचित हैं। उसने कहा कि निश्चित तौर पर डा. सुब्रमणियम ने इन मुद्दों को तब भी उठाया होगा, जब वह मुख्य आर्थिक सलाहकार के पद पर काम रहे थे।

You might also like