जैविक खेती को लेकर किसानों को किया जागरूक

ठियोग -राकृतिक खेती खुशहाल किसान योजना’ के अंतर्गत किसानों को प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा प्रशिक्षण शिविर का आयोजन कर प्रोत्साहित किया जा रहा है। कृषि, जनजातीय विकास एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डा. रामलाल मारकण्डा ने बुधवार ठियोग तहसील के कंदरू में जनसमस्याओं को सुनने के उपरांत अपने संबोधन में यह जानकारी प्रदान की। डा. रामलाल मार्कंडेय ने कहा कि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए आगामी 28 जून से 03 जुलाई, 2019 तक छह दिवसीय प्रशिक्षण शिविर डा. वाईएस परमार वानिकी एवं बागबानी विश्वविद्यालय नौणी, सोलन में आयोजित किया जाएगा, जिसमें 06 जिलों के 1100 किसान भाग लेंगे। पदमश्री सुभाष पालेकर द्वारा प्राकृतिक खेती पर किसानों को जानकारी प्रदान की जाएगी। इस प्रशिक्षण शिविर में सोलन, शिमला, सिरमौर, किन्नौर, लाहौल-स्पीति और मंडी जिला के किसान भाग लेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व में भी प्रशिक्षण शिविर चैधरी सरवण कुमार कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर में आयोजित किया गया था। उन्होंने कहा कि इन शिविरों में किसानों को रसायनिक खेती से मुक्ति का मार्ग बताते हुए प्राकृतिक खेती की ओर परिवर्तित करने के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाता है।  इस अवसर पर परियोजना निदेशक आत्मा डा. आरएस कंवर, उप निदेशक कृषि डा. अश्वनी दत्ता, विषय विशेषज्ञ धर्म चंद, खंड तकनीकी प्रबंधक विक्रांत लेखी तथा स्थानीय नागरिक उपस्थित थे।

You might also like