झुलसने लगा बदन

नादौन—नादौन क्षेत्र में इस बार बदन झुलसा देने वाली गर्मी पड़ रही है। बढ़ते तापमान से स्कूली बच्चों को सबसे ज्यादा दिक्कतें आ रही हंै। स्कूल से लौटते वक्त सबसे ज्यादा मौसम गर्म होता है। एक सप्ताह से तापमान 40 से 45 डिग्री सेल्सियस के पार तक पहुंच रहा है। इस कारण भारी उमस व गर्म लू के थपेड़े जान के आफत बनते जा रहे है। इसलिए अभिभावकों ने प्रशासन ने मांग की है कि गर्मियों में स्कूलों का समय बदला जाए। अभिभावकों  का कहना है कि इस वर्ष मई से ही अधिक गर्मी पड़ रही है और पारा दोपहर में 42 डिग्री से लेकर 45 डिग्री तक रह रहा है। बच्चों का भीषम गर्मी में स्कूल जाना व पढ़ाई कर पाना बेहद कठिन होता जा रहा है। गर्मी से बीमार होने का खतरा बना है। इतना ही नहीं, कई स्कूलों में तो पानी के पानी की पूर्ण रूप से आपूर्ति भी नहीं हो पा रही है, जिस कारण नौनिहालों का बुरा हाल है। क्षेत्र भर में कई ऐसे स्कूल भी हैं, जहां पर पंखों सहित बच्चों के बैठने का उचित प्रबंध तक नहीं है। पेश आ रही इस समस्या के निवारण के लिए अभिभावकों ने प्रशासन से पुरजोर मांग की है कि सरकारी स्कूलों सहित सभी निजी स्कूलों में समय सुबह सात बजे से दोपहर एक बजे तक किया जाए। सप्ताह भर से नादौन क्षेत्र सहित अन्य क्षेत्रों का पारा भी 40 से 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच रहा है। अभिभावकों का कहना है कि दोपहर दो बजे के बीच बच्चों की छुट्टी होती है। उस समय तक खूब प्रचंड गर्मी हो जाती है। इतनी भीष्ण गर्मी में बच्चों अनचाही बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। इस संबंध में एसडीएम नादौन दिले राम धीमान ने कहा कि  अभिभावकों की तरफ से जो मांग रखी गई है तथा गर्मी के चलते स्कूली बच्चों को पेश आ रही दिक्कतों पर गंभीरता से विचार किया जाएगा।

You might also like