झूठे आरोप पर टीचर पर कार्रवाई की मांग

शिमला – जिला सोलन के एक सरकारी स्कूल की शिक्षिका द्वारा प्रधानाचार्य की छवी खराब करने का आरोप है। यही वजह है कि अब उक्त शिक्षिका के खिलाफ जांच फाइल खुलने का इंतजार शिक्षा विभाग सहित अन्य शिक्षक वर्ग को भी है। बता दें कि शिक्षा विभाग ने सरकार को एक माह पहले जांच पूरी कर सरकार को फाइल सौंप दी थी, लेकिन अभी तक इस पर कोई भी कार्रवाई आगे नहीं हो पा रही है। मौजूदा समय में उक्त प्रधानाचार्य सचिवालय में डेपुटेशन पर सेवाएं दे रहे हैं। हैरानी इस बात की है कि इस मामले पर बिना पूरी जांच हुए ही यह कार्रवाई शिक्षा विभाग ने पहले उक्त प्रिसिंपल पर कर दी। अब एक साल बाद छेड़खानी के इस मामले की पूरी जांच जब विभाग ने कर दी है, तो बताया जा रहा है कि शिक्षा विभाग ने सरकार से उक्त शिक्षिका को सस्पेंड करने की सिफारिश की है। जानकारी के अनुसार सोलन के भूमती वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल के पूर्व प्रधानाचार्य पर लगाए गए छेड़छाड़ के आरोपों की जांच रिपोर्ट विभाग ने सरकार को सौंप दी है। इस जांच रिपोर्ट में प्रधानाचार्य पर लगाए गए सभी आरोप निराधार पाए गए हैं। यह जांच उच्च शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक प्रशासनिक द्वारा की गई है। जांच में सामने आया है कि शिक्षिका द्वारा जो आरोप स्कूल प्रधानाचार्य पर लगाए गए हैं, उनमें  कोई सच्चाई नहीं हैं। सभी आरोप निराधार पाए गए है। ऐसे में अब प्रधानाचार्य पर झूठे आरोप लगाने के लिए शिक्षिका पर कार्रवाई हो सकती है।

You might also like