टांग दिया बल्ला

भारतीय क्रिकेट के ‘युवराज’ ने लिया संन्यास

मुंबई –विश्वकप 2011 में भारत की खिताबी जीत में मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहे और कैंसर पर विजय पाने वाले यवराज सिंह ने क्रिकेट से संन्यास लेने की सोमवार को घोषणा कर दी। भारतीय क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडरों में शुमार युवराज ने अपने संन्यास की घोषणा ऐसे समय में की, जब इंग्लैंड में आईसीसी का एकदिवसीय विश्वकप चल रहा है और भारत इस टूर्नामेंट में अपने दो मुकाबले लगातार जीत चुका है। सिक्सर किंग के नाम से मशहूर विस्फोटक बल्लेबाज और बाएं हाथ के स्पिनर युवराज ने भारत की मेजबानी में 2011 में हुए विश्वकप में देश को 28 साल के लंबे अंतराल के बाद विश्व चैंपियन बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ दि टूर्नामेंट के पुरस्कार से नवाजा गया था।  उन्होंने मुंबई के एक होटल में संवाददाता सम्मेलन में अपने संन्यास की घोषणा की।

सफलता और मौके दोनों नहीं मिल रहे थे

संन्यास के फैसले पर युवराज ने कहा कि सफलता भी नहीं मिल रही थी और मौके भी नहीं मिल रहे थे। 2000 में करियर शुरू हुआ था और 19 साल हो गए थे। उलझन थी कि करियर कैसे खत्म करना है। सोचा कि पिछला टी-20 जो जीते हैं, उसके साथ खत्म करता तो अच्छा होता, लेकिन सब कुछ सोचा हुआ नहीं होता। जीवन में एक वक्त आता है कि वह तय कर लेता है कि अब किधर जाना है।

बोर्ड ने दिया था विदाई मैच का ऑफर

मुंबई -युवराज सिंह ने सोमवार को खुलासा कि बीसीसीआई ने ‘यो-यो’ टेस्ट में विफल होने पर उन्हें विदाई मैच का वादा किया था। युवराज हालांकि ‘यो-यो’ टेस्ट में सफल रहे और उन्हें विदाई मैच खेलने का मौका कभी नहीं मिला। लगभग 17 साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के बाद संन्यास की घोषणा करने वाले 37 साल के युवराज ने भारत की ओर से पिछला मैच जून 2017 में खेला था। युवराज ने संन्यास की घोषणा के लिए बुलाई प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि मुझे बोला गया था कि अगर आपसे ‘यो-यो’ टेस्ट पास नहीं होता तो आप विदाई मैच खेल सकते हो। युवराज के समकक्ष वीरेंद्र सहवाग ने विदाई मैच नहीं खेलने का दर्द बयां किया, लेकिन बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा कि वह ऐसा मैच नहीं चाहते थे। यहां तक कि वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज खिलाडि़यों को भी विदाई मैच खेलने का मौका नहीं मिला, जिसके वे हकदार थे। उन्होंने कहा कि मैंने बीसीसीआई में किसी से नहीं कहा कि मुझे अंतिम मैच खेलना है। अगर मैं अच्छा था, मेरे अंदर क्षमता थी, तो मैं मैदान से संन्यास लेता और मुझे इस तरह का क्रिकेट खेलना पसंद नहीं है कि मुझे एक मैच चाहिए। युवराज ने कहा कि तो मैंने उस समय बोला कि मुझे विदाई मैच नहीं चाहिए, यो-यो टेस्ट पास नहीं होगा, तो मैं चुपचाप घर चला जाऊंगा। यो-यो टेस्ट मैंने पास किया और इसके बाद चीजें मेरे हाथ में नहीं थी।

चुनौतियां थी आपार मैं कभी हारा नहीं…

अपने करियर और जीवन में हमेशा चुनौतियों का डट कर सामना करने वाले युवराज सिंह ने कहा कि मैंने कभी किसी चुनौती से हार नहीं मानी फिर चाहे वह क्रिकेट का मैच रहा हो या कैंसर जैसी गंभीर बीमारी। अपने शानदार क्रिकेट करियर को याद करते हुए युवराज ने भावुकता के साथ कहा कि अपने 25 साल के करियर और 17 साल के अंतरराष्ट्रीय करियर में मैंने कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। मैंने अब अपने करियर में आगे बढ़ने का फैसला ले लिया है। युवराज पिछले काफी अरसे से भारतीय टीम से बाहर चल रहे थे। उनका सपना 2019 के विश्वकप में भी खेलना था, लेकिन खराब फार्म और फिटनेस के कारण उनका यह सपना अधूरा रह गया।

फ्लिंटॉफ का गुस्सा ब्रॉड पर उतरा, लगाए छह छक्के

बात 2007 की है। टी-20 वर्ल्डकप में भारत और इंग्लैंड का मैच हो रहा था। युवराज और धोनी बल्लेबाजी कर रहे थे, तभी फ्लिंटॉफ युवी को छेड़ने लगे। बातों-बातों में दोनों के बीच बहस होने लगी, जिसे अंपायर ने शांत करा दिया। फिर युवराज ने बल्ले से जवाब देते हुए स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर छह छक्के लगा दिए। मैच में युवी ने सिर्फ 12 बॉल में फिफ्टी भी मारी थी। यह सिर्फ टी-20 ही नहीं, इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे तेज फिफ्टी है।

खेल ने गिरने के  बाद उठना सिखाया

 संन्यास का ऐलान करते हुए युवी ने कहा कि इस खेल ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है कि कैसे लड़ना है और गिरने के बाद फिर से कैसे उठना है और आगे बढ़ना है।

दूसरी पारी में विदेशी लीग खेलने की तैयारी

दिग्गज ऑलराउंडर युवी ने कहा कि मैं काफी समय से संन्यास के बारे में सोच रहा था और आज मैंने यह फैसला कर दिया। अब मेरी योजना आईसीसी द्वारा मान्यता प्राप्त ट््वेंटी-20 टूर्नामेंटों में खेलने की है।

छह छक्के खाने वाले ब्रॉड बोले, अपना रिटायरमेंट एंज्वॉय कीजिए

युवराज सिंह ने जब इंटरनेशनल क्त्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया, उस वक्त से ही स्टुअर्ट ब्रॉड को मारे युवराज सिंह के वह छह छक्के सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं। इस दौरान स्टुअर्ट ब्रॉ़ड ने युवराज सिंह को उनके संन्यास पर शुभकामना देते हुए एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि लीजेंड अपना रिटारमेंट एंज्वॉय कीजिए।

एक्स गर्लफ्रेंड किम  ने भी किया कमेंट

मुंबई। युवराज की वाइफ हेजल कीच ने सोशल मीडिया पर संन्यास पर पोस्ट किया। इस पोस्ट में युवराज सिंह की एक्स गर्लफ्रेंड किम शर्मा ने भी कमेंट किया। हेजल ने लिखा कि इसी के साथ एक दौर का अंत हो गया है। खुद पर गर्व करो हसबैंड, अब इस नए सफर की शुरुआत होने वाली है। हेजल कीच के इस फोटो पर किम शर्मा ने भी कमेट किया है। किम शर्मा ने लिखा कि ये प्यारी सी जोड़ी हमेशा चमकती रहे।

You might also like