टांडा में सीएमओ ने नहीं किया ज्वाइन

सरकार के आदेशों के बाद भी हास्पिटल में नहीं आए, एमर्जेंसी वार्ड में हो रही परेशानी

कांगड़ा –सरकार के तैनाती आदेशांे के बाद भी डा. राजंेद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल टांडा में कैजुअल्टी मेडिकल आफिसर (सीएमओ) ने ज्वाइन नहीं किया है। पिछले करीब डेढ़ माह से दो ही सीएमओ के सहारे चल रहे एमर्जंेसी वार्ड में स्वास्थ्य सेवाआंे को सुचारू रखना अस्पताल प्रशासन के लिए चुनौती बन गया है। प्रशिक्षु चिकित्सकांे की सेवाएं एमजंेसी वार्ड मंे लेना भी अस्पताल प्रशासन के लिए परेशानी बनी हुई है। प्रदेश सरकार सहित स्वास्थ्य निदेशालय के समक्ष उठाए गए इस मामले पर चार सीएमओ के तैनाती आदेश हाल ही में जारी किए गए थे। आदेशांे के अनुसार मंगलवार तक इन चिकित्सकांे को टांडा अस्पताल में अपनी ज्वाइनिंग देनी थी, लेकिन एक भी चिकित्सक अस्पताल में नहीं पहुंचा। जानकारी के अनुसार टांडा अस्पताल के एमर्जंेसी वार्ड में सेवाएं दे रहे छह में से चार चिकित्सकांे का पीजी के लिए चयन होने के चलते आपातकालीन सेवाएं सुचारू रखना अब अस्पताल प्रशासन के लिए चुनौती बन गया है। आपातकालीन वार्ड की सेवाएं बहाल रखने के लिए प्रशिक्षु चिकित्सकांे की ड्यूटी लगाई जा रही है। प्रशिक्षु चिकित्सक भी पहले से ही अपने-अपने डिपार्टमेंट में व्यस्त होने के कारण आपातकालीन वार्ड में सेवाएं देने को लेकर तैयार नहीं हो रहे हैं। हालांकि किसी तरह से अस्पताल प्रशासन ने चिकित्सकांे की व्यवस्था कर आपातकालीन सेवाआंे को चलाने के लिए बंदोबस्त किया है। उल्लेखनीय है कि टांडा अस्पताल में दिन-रात आपात स्थिति में दर्जनांे मामले पहुंचते हैं। आपात स्थिति में पहुंचने वाले मरीजांे को एमरजेंसी वार्ड में ही उपचार की प्रक्रिया को आरंभ कर उनको राहत प्रदान की जाती है। लेकिन मौजूदा समय में दो ही स्थायी सीएमओ के सहारे इन सेवाआंे को बहाल रखना भी मुश्किल का कार्य बना हुआ है। अस्पताल प्रशासन द्वारा एमर्जंेसी वार्ड की सेवाआंे को सुचारू रखने में पेश आ रही इन समस्याआंे को लेकर सरकार सहित निदेशालय को अवगत करवाया जा रहा है। जिसके चलते ही चार कैजुअल्टी मेडिकल आफिसर की तैनाती के लिए आदेश जारी किए गए थे, लेकिन टांडा के लिए तैनात किए गए चिकित्सकांे ने मंगलवार को अपनी ज्वाइनिंग नहीं दी है। टीएमसी के चिकित्सा अधीक्षक डा. सुरिंद्र सिंह भारद्वाज ने बताया कि चार सीएमओ की तैनाती आदेश जारी हुए थे, लेकिन किसी भी चिकित्सक ने अपनी तैनाती टांडा में नहीं दी है। इस बारे आला अधिकारियांे को अवगत करवाया गया है।

 

 

You might also like