टिकट की दौड़ से पीछे हटे त्रिलोक कपूर

दिल्ली दरबार में पैठ के चलते दावेदारों में गिने जा रहे गद्दी नेता

पालमपुर -भाजपा नेता किशन कपूर के धर्मशाला से दिल्ली पहुंचने के बाद अब उपचुनाव में टिकट को लेकर अंदरखाते दावेदारियों का दौर शुरू हो गया है। हालांकि अभी तक किसी भी नेता ने खुले तौर पर अपनी मंशा जाहिर नहीं की है लेकिन टिकट पर नजरें गढ़ाए नेताओं व उनके समर्थकों ने गोटियां फिट करनी शुरू कर दी हंै। विधायक से सांसद बने किशन कपूर गद्दी समुदाय से संबंध रखते हैं और यह बात भी सामने आ रही है कि उपचुनाव में भी गद्दी समुदाय के नेता आलाकमान की पसंद बन सकते हैं। इसी कड़ी में दिल्ली दरबार में कनेक्शन के चलते गद्दी नेता व भाजपा जनजातिय मोर्चा के राश्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष त्रिलोक कपूर के नाम पर भी सुगबुगाहट सुनी जा रही है। भाजपा की टिकट के लिए राजनीतिक गलियारों में हालांकि त्रिलोक कपूर का नाम हाल ही में जुड़ा है लेकिन उनके भाजपा के ऊंचे कद के नेताओं के साथ संबंधों के चलते संभावनाओं से इनकार भी नहीं किया जा सकता। फिलवक्त भाजपा आलाकमान ने टिकट को लेकर कुछ भी इशारा नहीं किया है लेकिन अभी बने समीकरणों के चलते भाजपा की संभावित जीत को देखते हुए हर कोई टिकट पाने की चाह पाल रहा है। हालांकि फिलवक्त त्रिलोक कपूर खुद को टिकट के दावेदारों में नहीं देख रहे हैं लेकिन आने वाले समय में क्या संभावनाएं बनती हैं इस पर कुछ नहीं कहा जा सकता। भाजपा जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं लोकसभा चुनाव से पूर्व टिकट के रहे सबसे प्रबल दावेदार व भाजपा के संभावित राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के नजदीकी भाजपा नेता त्रिलोक कपूर से जब यह जानना चाहा कि नड्डा के भाजपा प्रमुख रहने से क्या वे धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र से होने वाले उपचुनाव में टिकट के दावेदार होंगे। इस सवाल पर त्रिलोक कपूर ने कहा कि ऐसी परिस्थितियों में कौन नहीं चाहेगा कि धर्मशाला उपचुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी का टिकट मिले।

 

 

You might also like