टिहरी झील में करें ‘स्कूबा डाइविंग’

42 वर्ग किमी में फैली विशाल जलाशय में लें पुराने अवशेषों को देखने का मजा 

टिहरी -टिहरी बांध की विशालकाय झील में अब पर्यटक स्कूबा डाइविंग कर झील की गहराइयों में जलीय जीवन के साथ जलमग्न ऐतिहासिक पुरानी टिहरी शहर के अवशेषों को भी देख सकेंगे। रविवार को यहां व्यक्तिगत प्रयास से स्कूबा डाइविंग का शुभारंभ किया गया। देश के सबसे ऊंचे टिहरी बांध की 42 वर्ग किमी में फैली विशालकाय टिहरी झील पर्यटन विकास की असीम संभावनाओं को संजोए हुए है। लेकिन सरकारी स्तर से पर्यटन विकास के लिए कोई खास प्रयास नहीं हुए हैं।  स्थानीय बेरोजगार युवा ही बोटिंग, जेट स्की आदि के माध्यम से पर्यटन को बढ़ावा देने का काम कर रहे हैं। इन्हीं में से एक स्थानीय युवा अरविंद रतूड़ी ने अपने व्यक्तिगत प्रयासों से स्कूबा डाइविंग की शुरुआत की है। अरविंद रतूड़ी के मुताबिक स्कूबा डाइविंग शुरू होने से यहां पर्यटक झील की गहराइयों में जलीय जीवन के साथ पुरानी टिहरी शहर के कई तरह के अवशेषों को भी देख सकेंगे।

दो हजार रुपए है फीस

कोटी कालोनी में झील किनारे दस लोगों के लिए एक साथ स्कूबा डाइविंग करने के लिए साजो सामान जुटाया गया है। प्रति व्यक्ति दो हजार रुपए खर्च कर पर्यटक यहां स्कूबा डाइविंग का मजा उठा सकते हैं।

You might also like