टीएमसी में दो नए अहम विभाग जल्द

कांगड़ा —प्रदेश के निचले हिमाचल के करीब छह जिलों को स्वास्थ्य सुविधाएं देने वाले डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल में अब दो अहम विभाग शुरू करने के लिए प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है। इस मेडिकल कालेज में खून से जुड़ी विभिन्न बीमारियों का पता लगाने के लिए हेप्टोलॉजी और पाचन तंत्र में संक्रमण और सूजन के कारण होने वाले रोगों के उपचार के लिए गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी विभाग स्थापित किए जाएंगे। इन दोनों विभागों को टांडा मेडिकल कालेज में शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी घोषणा कर दी है। टीएमसी में रविवार को आयोजित हुए कनेक्सज-2019 कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं सुदृढ़ की जा रही हैं। केंद्र सरकार ने बिलासपुर में बनने वाले एम्स के लिए 1300 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं। प्रदेश में मेडिकल छात्रों को गुणात्मक मेडिकल शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए मंडी के नेरचौक में एक मेडिकल विश्वविद्यालय बनाया जाएगा। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने एमबीबीएस के छात्रों की छात्रवृत्ति को 15 हजार से बढ़ाकर 17 हजार रुपए प्रतिमाह करने की घोषणा भी की। साथ ही उन्होंने कालेज के सभागार में नवीनतम ऑडियो-वीडियो प्रणाली स्थापित करने के लिए 1.50 करोड़ रुपए देने की भी घोषणा की। परिसर में छात्रों की सुविधा के लिए जल्द ही रेडियोग्राफर के पद भरे जाएंगे और दो बसें भी उपलब्ध करवाई जाएंगी। फीजियोथैरेपी विभाग भी मजबूत किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले छात्रों के लिए दो लाख रुपए देने की घोषणा की। स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा कि कालेज के छात्रों की प्रस्तुति उत्कृष्ट है।

 

 

You might also like