टीएमसी में नर्सों की आउटसोर्स भर्ती बैन

कांगड़ा – डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल में आउटसोर्स के तहत नर्सों की भर्ती प्रक्रिया पर प्रदेश सरकार ने रोक लगा दी है। टांडा अस्पताल में नर्स स्टाफ की कमी के चलते आउटसोर्स के तहत करीब डेढ़ सौ नर्सों सहित ओटीए रखे जाने थे। यह प्रक्रिया पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार ने लोकसभा चुनाव से पहले मंजूरी प्रदान की थी। आउटसोर्स के तहत नर्सों की भर्ती किए जाने के खिलाफ टीएमसी टें्रड नर्स एसोसिएशन ने भी विरोध जताया था। इस दौरान एसोसिएशन ने अनुबंध के आधार पर नर्सों की भर्ती किए जाने की मांग प्रमुखता से रखी थी। हालांकि चुनाव आचार संहिता के चलते यह प्रक्रिया रुक गई थी तथा अब आचार संहिता समाप्त होने के बाद आउटसोर्स के तहत नर्सों की भर्ती किए जाने की प्रक्रिया पर सरकार ने भी रोक लगा दी है। टांडा अस्पताल ट्रेंड नर्स एसोसिएशन की प्रधान बृज कटोच सहित अन्य पदाधिकारियों ने आउटसोर्स के तहत नर्सों की भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगाने के प्रदेश सरकार के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने आउटसोर्स के तहत नर्सों की भर्ती पर रोक लगाने के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर तथा स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार का आभार प्रकट किया है। उन्होंने कहा कि ठेकेदार के अंडर ट्रेंड नर्सों को रखा जाना न्यायसंगत नहीं था। साथ ही ठेकेदार के अंडर रखी जाने वाली नर्सों का आर्थिक तौर पर भी शोषण होना था। उल्लेखनीय है कि टीएमसी में आउटसोर्स के तहत नर्सों की भर्ती के लिए आमंत्रित किए गए टेंडर तीन जून को खोले जाने थे, लेकिन इससे पहले टीएमसी के कनेक्सज-2019 में पहुंचे मुख्यमंत्री तथा स्वास्थ्य मंत्री के समक्ष नर्स एसोसिएशन ने यह मामला फिर से उठाया था। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने भी एसोसिएशन को इस मामले में उचित कदम उठाने का आश्वासन दिया था।

You might also like