ठियोग में तूफान ने जमीन पर लेटाया सेब

ठियोग —पिछले दो दिन से रुक-रुककर कर हो रही बारिश कई जगह लोगों के लिए आफत बनकर आई है। ऊंचे क्षेत्र में आंधी-तूफान से बागबानों के पेड़ों में लगे फलों को भारी नुकसान पहुंचा है। ऊपरी इलाकों में हो रही बारिश ने जहां किसानों को राहत दी है, वहीं इस बारिश ने बागबानों पर कहर ढाया है। ठियोग की भराना कमाह पंचायत के नागोधार, क्यार, सरीवन, मतियाना, धारकंदरु, संधू, चियोग, घूंड, बगैण के अलावा कई पंचायतों में तूफान से सेब की फसल को नुकसान पहुंचा है। कमाह पंचायत के नागोधार गांव के रहने वाले महेंद्र वर्मा ने बताया कि बुधवार रात को तेज तूफान के कारण उनके बगीचे में अधिक नुकसान हुआ है और इस कारण काफी अधिक सेब तौलिए में झड़ गया है, जबकि जालिया भी गिर गई है । इसके कारण कई पौधों की टहनियां टूट गई और सेब के पौधे को भारी नुकसान हुआ है। पंचायत में बीते शाम हुई जोरदार बारिश और तूफान ने सेब की फसल को तबाह कर दिया है। इसके अलावा भराना पंचायत के कई गावों में भयंकर तूफान ने सेब के पौधों का भारी नुकसान पहुंचाया है। ये हाल सिर्फ  ठियोग में ही नहीं है बल्कि बाकी क्षेत्रों में भी बारिश ने सेब की फसल को काफी नुकसान पहुंचाया है। बारिश के साथ चली आंधी और तूफान से बगीचों में झड़कर सेब के ढेर लग गए हैं, जिससे सेब के पौधे कई जगह बिलकुल खाली ही हो गए हैं, जिससे बागबानों के होश उड़े हुए हैं। यही नहीं तूफान का कहर सेब के पौधों में ओलावृष्टि से बचने के लिए लगाए गए एंटी हेल नेट पर भी बरपा। तूफान से सेब के पौधों पर लगाई जालियां (एंटी हेल नेट) हवा में उड़ गई ।

You might also like