दसवीं कंपार्टमेंट परीक्षा में अंग्रेजी का पेपर लीक

सुजानपुर स्कूल में तीन को हुआ कांड, शिक्षा बोर्ड ने कानोंकान खबर नहीं होने दी

शिमला  – हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की कंपार्टमेंट परीक्षा में मैट्रिक का पेपर लीक हो गया है। हमीरपुर जिला के सुजानपुर स्कूल में तीन जून को आईटी की जगह इंग्लिश का पेपर खोल दिया गया था। इस भयंकर चूक के बावजूद स्कूल शिक्षा बोर्ड ने इस मामले की किसी को कानोंकान खबर नहीं होने दी। उसी दौरान ई-मेल के माध्यम से बोर्ड से आईटी का नया पेपर सुजानपुर भेजा गया और छात्रों की आंखों में धूल झोंककर परीक्षा को भी अंजाम दे दिया गया। हैरत है कि परीक्षा केंद्र के भीतर मैट्रिक आईटी का बंडल पहुंचा था। ऐन मौके पर खोले गए बंडल के भीतर मैट्रिक इंग्लिश के प्रश्न पत्र निकल गए। स्कूल प्रबंधन ने इसकी सूचना तुरंत स्कूल शिक्षा बोर्ड प्रशासन को दी। चौंकाने वाली बात है कि पुराने ढर्रे पर लौटते हुए शिक्षा बोर्ड ने पेपर रद्द करने की बजाय सबको  बेवकूफ बनाकर ई-मेल से भेजे पेपर से परीक्षा करवा दी। इसके बाद स्कूल छात्रों से लेकर परीक्षा में तैनात स्टाफ सबको मुंह बंद रखने की सलाह दी गई। जाहिर है कि हिमाचल स्कूल शिक्षा बोर्ड पहले भी इस तरह के कारनामों को लेकर विवादों में रहा है। हालांकि बोर्ड परीक्षा फर्जीबाड़ा उजागर होने के बाद पारदर्शिता के प्रयास हुए हैं। कुछ सालों बाद स्कूल शिक्षा बोर्ड एक बार फिर पुरानी परिपाटी पर लौट आया है। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सुजानपुर में तीन जून को आयोजित मैट्रिक की आईटी की परीक्षा इसका प्रमुख उदाहरण है। जाहिर है कि बोर्ड नियमों के तहत परीक्षा केंद्र के भीतर किसी भी पेपर के लीक होने से संबंधित विषय की परीक्षा रद्द करनी पड़ती है। बावजूद इसके बोर्ड ने एक गलती को छुपाने के लिए उसके बाद गलतियों पर गलतियां कर डालीं। बहरहाल बोर्ड की इस करतूत के प्रत्यक्षदर्शी छात्र अब आईटी के पेपर में खुले इंग्लिश के प्रश्न पत्रों के किस्से सुना रहे हैं। हालांकि स्कूल शिक्षा बोर्ड अब मामले को यह कहकर रफा-दफा कर रहा है कि इंग्लिश का पेपर तीन जून से पहले संपन्न हो गया था। इस कारण पेपर लीक होने का यह मामला नहीं बनता है। चौंकाने वाली बात यह है कि इस भयंकर चूक पर कोताही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय खुद बोर्ड प्रशासन ने मामले को दबा दिया।

बोर्ड से मांगी रिपोर्ट

शिक्षा विभाग के सचिव कमलेश कुमार पंत का कहना है कि आईटी की जगह इंग्लिश का पेपर खुलना गंभीर मसला है। इस पर स्कूल शिक्षा बोर्ड प्रशासन से लिखित रिपोर्ट मांगी गई है। इस आधार पर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

यह पेपर लीक नहीं

स्कूल शिक्षा बोर्ड के सचिव हरीश गज्जू ने बताया कि उस दिन एसओएस तथा कंपार्टमेंट की सामान्य परीक्षा एक साथ थी। इस कारण आईटी की जगह गलती से इंग्लिश का पेपर खुल गया था। इंग्लिश का पेपर पहले हो चुका था, इस कारण यह मामला पेपर लीक का नहीं बनता।

You might also like