दिल्ली जाने को बेकरार गिरिपार का लाल सोना

पांवटा साहिब—जिला के पहाड़ी गिरिपार क्षेत्र से लाल सोना दिल्ली की मंडी में धूम मचाने के लिए बेकरार है। क्षेत्र से टमाटर की पहली खेप एक सप्ताह के भीतर दिल्ली पहुंच सकती है। किसानों को शुरुआती दाम अच्छे मिलने की भी संभावना है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक गिरिपार के कफोटा व शिलाई क्षेत्र में इस बार भी टमाटर की खेती व्यापक स्तर पर की गई है। हालांकि इस बार भी समय पर बारिश न होने के कारण उत्पादन पर असर पड़ गया है, लेकिन फिर भी फसल औसतन ठीक रहने की संभावना जताई जा रही है। बिना बारिश टमाटर समय से पहले लाल होना शुरू हो गया और कई स्थानों पर दाने का साइज भी प्रभावित हुआ। प्राप्त जानकारी के मुताबिक शिलाई क्षेत्र के करीब एक सौ से अधिक गांव-उपगांव में टमाटर के लाखों पौधे लगाए गए हैं। पिछली बार शुरुआती दौर में 700 से 800 रुपए प्रति क्रेट दाम मिलने से उत्साहित किसानों ने इस बार भी व्यापक दायरे मंे टमाटर की खेती की है। पिछले साल के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो अकेले कफोटा क्षेत्र की एक दर्जन से अधिक पंचायतों से दिल्ली में करीब दो लाख से अधिक क्रेट टमाटर की पहुंची थी। जानकारी के मुताबिक शिलाई क्षेत्र मंे इस बार हजारों बीघा भूमि पर टमाटर की खेती की गई है। हर किसान ने औसतन चार से पांच हजार पौधे लगाए हैं। कई किसान ऐसे भी हैं जिन्होंने 15-20 हजार पौधे लगाकर व्यापक स्तर पर टमाटर की खेती की है। अकेले कफोटा क्षेत्र में लाखों की संख्या में टमाटर के पौधे लगे हैं। इनमंे हिम सोना, लाल सोना, रेड गोल्ड आदि वैरायटी शामिल है। पौधों की संख्या क अनुमान लगाना मुश्किल है, लेकिन क्षेत्र मंे चारों ओर घूमने वाले व्यापारी बलबीर पुंडीर कहते हैं कि क्षेत्र में 10 लाख से अधिक टमाटर के पौधे किसानों द्वारा लगाए गए हैं।

You might also like