दुगाना के ग्रामीणों ने आग से बचाए मकान

पांवटा साहिब—सूर्यदेव का प्रचंड रूप जहां लोगों का जीना मुहाल कर रहा है, वहीं जंगल में आगजनी की घटनाएं भी दिन-प्रतिदिन बढ़ रही हैं। रविवार को गिरिपार क्षेत्र के कफोआ के खजूरी में चीड़ के जंगल में आग लग गई जिसने सैकड़ों बीघा जंगल को अपने चपेट में ले लिया। इस दौरान जंगल के पास रहने वाले कुछ परिवारों के घर के करीब तक आग पहुंच गई, जिससे रिहायशी मकान के इसके चपेट में आने का खतरा बन गया। सूचना मिलने पर दुगाना गांव के ग्रामीण प्रताप पुंडीर, हृदय राम पुंडीर, कल्याण सिंह, सुरजीत पुंडीर, जीवन सिंह, बाबू राम, बालक राम व रतन सिंह शर्मा आदि मौके पर पहुंचे और आगजनी पर काबू पाते हुए सिया राम और मदन सिंह आदि के मकानों को आग की चपेट मंे आने से बचा लिया। हालांकि जंगल अभी भी धू-धू कर जल रहा है और ग्रामीण आग बुझाने में जुटे हुए हैं। बताया जा रहा है कि शनिवार की रात को अज्ञात शरारती तत्त्वों ने जंगल को आग के हवाले किया। नेड़ा की तरफ से जंगल की आग फैलते फैलते खजूरी तक पहुंच गई। यह आग स्थानीय लोगों की रिहायश सहित वन विभाग के कार्यालय और श्रद्धा स्वयंसेवी संस्था के कार्यालय तक आ गई। वहीं सूचना पर अग्निशमन विभाग की एक गाड़ी भी आग बुझाने मौके पर पहुंच गई है। फायर अधिकारी प्रेम चौधरी ने बताया कि आग पर काबू पाया जा रहा है। इस आगजनी से लाखों रुपए की वन संपदा जल गई है।

You might also like