दुर्गा सहस्रनाम स्तोत्रम्

-गतांक से आगे…

वामा च पञ्चतपसां वरदात्री प्रकीर्तिता।

वाच्यवर्णेश्वरी विद्या दुर्जया दुरतिक्रमा।। 86।।

कालरात्रिर्महावेगा वीरभद्रप्रिया हिता।

भद्रकाली जगन्माता भक्तानां भद्रदायिनी।। 87।।

कराला पिङ्गलाकारा कामभेत्त्री महामनाः।

यशस्विनी यशोदा च षडध्वपरिवर्तिका।। 88।।

शङ्खिनी पद्मिनी संख्या सांख्ययोगप्रवर्तिका।

चैत्रादिर्वत्सरारूढा जगत्सम्पूरणीन्द्रजा।। 89।।

शुम्भघ्नी खेचराराध्या कम्बुग्रीवा बलीडिता।

खगारूढा महैश्वर्या सुपद्मनिलया तथा।। 90।।

विरक्ता गरुडस्था च जगतीहृद्गुहाश्रया।

शुम्भादिमथना भक्तहृद्गह्वरनिवासिनी।। 91।।

जगत्त्त्रयारणी सिद्धसङ्कल्पा कामदा तथा।

सर्वविज्ञानदात्री चानल्पकल्मषहारिणी।। 92।।

सकलोपनिषद्गम्या दुष्टदुष्प्रेक्ष्यसत्तमा।

सद्वृता लोकसंव्याप्ता तुष्टिः पुष्टिः क्रियावती।। 93।।

विश्वामरेश्वरी चैव भुक्तिमुक्तिप्रदायिनी।

शिवाधृता लोहिताक्षी सर्पमालाविभूषणा।। 94।।

निरानंदा त्रिशूलासिधनुर्बाणादिधारिणी।

अशेषध्येयमूर्तिश्च देवतानां च देवता।। 95।।  

You might also like