देलग भदरोग में सजी कवियों की महफिल

घुमारवीं -बिलासपुर लेखक संघ की मासिक कवि संगोष्ठी घुमारवीं के देलग-भदरोग में प्रधान डा. रोशन लाल शर्मा की अध्यक्षता में हुई। बैठक में देवराज शर्मा ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की, जबकि समाजसेवी सूबेदार प्रेम लाल विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। बैठक में सर्वप्रथम संघ के मुख्य संरक्षक कर्नल जसवंत चंदेल की बहन कृष्णी देवी के निधन पर शोक व्यक्त किया। इसके बाद मुख्यातिथि व विशेष अतिथि को संघ द्वारा शॉल, टोपी व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। संघ के प्रधान रोशन लाल शर्मा ने बताया कि बैठक में उपस्थित सदस्यों ने अपनी प्रेस लगाने के बारे में प्रस्ताव पारित किया। उन्होंने बताया कि इस विषय के बारे में संघ की आगामी बैठक जो कि 14 जून को व्यास सभागार में आयोजित की जाएगी, जिसमें विभिन्न विषयों पर गहनता चर्चा करने के बाद आगामी निर्णय लिए जाएंगे। सर्वप्रथम अवतार कौंडल ने अवतार हो जाने दो…, मिष्टी चंदेल ने बाल कविता…, स्नेह लता ने तन्हा राह है, जख्मों की बहार है…, जगदीश चंद ने कमी तेरी बहुत तड़पाती है…, वीना बर्धन ने इक व्याह लगीरा था…, विजय कुमारी सहगल ने मेरी बीवी है बड़ी सुंदर और सुशील…, सीताराम शर्मा ने पर्यावरण दिवस मनाएंगे…, हेमराज शर्मा ने था मैं नींद में सपने आ रहे थे…, रविंद्र ने इक ्रमनसुखा…, लश्करी राम ने कजो बणदे अपने बैरी, कजो करदे जिंद खराब…, सुशील पुंडीर ने मैं कभी झूठ नहीं बोलता, मैं नेता हूं…, बुद्धि सिंह चंदेल ने मेरे देश के नेता मोदी की हर बात निराली है…, चंद्रशेखर ने अपने संबोधन में शहादत को केंद्रित किया…, जसवंत चंदेल ने दिसंबर-जनवरी माह का रिश्ता…, नरैणू राम हितैषी ने गर्मी का कहर…, डा. रविंद्र ठाकुर ने ., द्वारका प्रसाद शर्मा ने आदर्श दिनचर्या…, रूप शर्मा ने सोए कवियों को देख…, रविंद्र शर्मा ने कहलूरी सटराला…, अनेक राम सांख्यान ने कराहट कविता…, रविंद्र कमल ने राह नई बनाता चल…, सुरेंद्र मिन्हास ने इक ऐहड़ा माणू आया… व रोशन लाल शर्मा ने चार धाम तीर्थ यात्रा पर सुंदर कविता सुनाई।

 

 

 

You might also like