दोष साबित, अंब में महिला प्रधान सस्पेंड

अंब—विकास खंड अंब के तहत पड़ती एक पंचयात में कार्यों की कोताही बरतने पर एक महिला प्रधान को सस्पेंड कर देने का मामला प्रकाश में आया है। जानकारी के अनुसार गांव के कुछ लोगों ने पंचायत पर विकास कार्यों में धांधली व आईआरडीपी में गलत चयन को लेकर आरोप लगाए थे। शिकायतकर्ता ने पंचायत में लगाए गए डस्टबिन में हेराफेरी होने के आरोप भी जड़े थे। इसकी विभागीय जांच पूरी होने के बाद सचिव व प्रधान को दोषी पाया गया। इसके बाद दोनों को हेराफेरी की गई राशि को सरकारी खजाने में जमा करवाने के निर्देश जारी किए गए। सचिव ने तो अपने हिस्से की राशि जमा करवा दी। गांव में डस्टबिन में लगाने में करीब 60 हजार की धांधली हुई है। पंचायत के करिंदों ने डस्टबिन की कुटेशनों के साथ छेड़खानी कर अपने स्तर पर नई कुटेशनों को तैयार कर सरकारी खजाने को हजारों रुपए का चूना लगा दिया। इसकी जांच ब्लॉक से लेकर डीसी कार्यालय तक पूरी होने के बाद सारी सच्चाई सामने आने आई। ग्रामीणों के दबाव के बाद प्रशासन ने प्रधान को निलंबित कर दिया है। सचिव के खिलाफ भी कार्रवाई होने की उम्मीद जताई जा रही है। बीडीओ अभिषेक मित्तल ने बताया कि एक प्रधान को कार्य में धांधली सामने आने पर निलंबित किया गया है।

You might also like