दो महीने बाद खुली तंबौल-नेराकुंड सड़क

स्वारघाट—ग्राम पंचायत तंबौल के तंबौल-नेराकुंड संपर्क मार्ग को सोमवार को लोक निर्माण विभाग ने पुलिस की सहायता से वाहनों की आवाजाही के लिए बहाल कर दिया। बता दें कि करीब दो महीने पहले इस संपर्क मार्ग को एक व्यक्ति ने जहां पर उसकी मिलकीयत भूमि थी, उस पर बड़े-बड़े पत्थरों और कंटीली झाडि़यों से बंद कर दिया था, जिसके चलते तंबौल पंचायत के नेराकुंड, आधा तंबौल गांव, च्योटा व खुंडगल आदि गांवों की जनता को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। लोगों को अपने वाहन तंबौल सड़क पर खड़े कर दो से तीन किलोमीटर पैदल चलकर घरों तक पहुंचना पड़ रहा था, तो वहीं ट्रैक्टर आदि न जाने से लोगों के खेत अभी तक जोते नहीं गए थे, लेकिन अब मार्ग बहाल करने से उक्त गांवों की जनता ने राहत की सांस ली है और एसडीएम स्वारघाट का धन्यवाद किया है। बताते चलें कि तंबौल से नेराकुंड के लिए बनाया गया संपर्क मार्ग करीब 35 साल पुराना है, जिसे उक्त व्यक्ति (जिसने मार्ग को रोका था) की माता की सहमति से उनकी जमीन से निकाला गया था और उस समय कोई कागजी कार्रवाई इत्यादि नहीं की जाती थी। केवल सहमति से ही सड़क निकाल दी जाती थी। करीब दो माह पूर्व उक्त व्यक्ति ने इस मार्ग को बड़े-बड़ पत्थर फेंककर बंद कर दिया था। हालांकि उसने मार्ग किस कारणवश बंद किया नहीं बताया है। स्थानीय लोगों ने इसकी शिकायत एसडीएम स्वारघाट से की थी, जिसके बाद उक्त व्यक्ति की माता को एसडीएम कार्यालय बुलाया गया था। जहां पर व्यक्ति की माता ने उक्त मार्ग पर कोई आपत्ति जाहिर नहीं की थी। इसके बाद एसडीएम स्वारघाट अनिल चौहान ने लोक निर्माण विभाग सड़क मार्ग को खोलने के आदेश 31 मई तक दिए थे। 31 मई को तो किसी कारणवश मार्ग बहाल नहीं हो पाया था, लेकिन सोमवार को लोक निर्माण विभाग ने इसे मौके पर जाकर खुलवा दिया है। मौके पर एसडीओ पीडब्ल्यूडी मौजूद रहे और जेसीबी द्वारा पत्थरों को सड़क से हटाया गया।

You might also like