धर्मशाला में तैयार हो रहे इंजीनियर-डाक्टर

धर्मशाला   —प्रवेश परीक्षाओं के परिणामों में देश भर के प्रमुख शैक्षणिक केंद्रों का पछाड़ते हुए धर्मशाला लगातार आगे बढ़ रहा है। कोटा की तर्ज पर हिमाचल की दूसरी राजधानी धर्मशाला की प्रमुख अकादमियों ने यहां से हर वर्ष दर्जनों डाक्टर व इंजीनियर देने शुरू कर दिए हैं। इसके चलते अब यह शिक्षा का बड़ा हव बन गया है। प्रवेश परीक्षा परिणामों में हर वर्ष आ रहे उछाल से अभिभावकों की विश्वसनीयता भी धर्मशाला के लिए बढ़ने लगी है। अब बच्चों के अभिभावक अधिक खर्च कर अपने बच्चों को चंडीगढ़ या अन्य नामी शहरों में भेजने के बजाए यहां पढ़ाने को अधिक तरजीह दे रहे हैंं। लोकल स्तर पर शुरू हुई अकादमी के अलावा अब यहां एचएएस और आईएएस की कोचिंग के लिए भी दूसरे स्थानों पर काम करने वाली अकादमियां यहां दस्तक देने लगी हैं।  विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए हिमाचली छात्रों को पूर्व में दिल्ली, चंडीगढ़ या कोटा तरफ देखना पड़ता था। फीस के अलावा बड़े शहरों में रहना खाना पीना और अन्य खर्चों की जमा गुणा कर अच्छे घरों के बच्चे तो वहां पहुंच जाते थे, लेकिन मध्यम वर्ग के छात्रों के लिए डाक्टर या इंजीनियर बनने का सपना, सपना ही रह जाता था।  वर्ष 2016 में गुरु स्टडी सेंटर ने प्रयास शुरू किए और पहले ही साल तीन छात्रों की एमवीवीए को चयनित हो गए। इसी विश्वास को बढ़ाते हुए उन्होंने अधिक प्रयास किए और वर्ष 2017 में यह संख्या बढ़कर उवल हो गई यानी गुरु अकादमी के छह छात्र डाक्टर बन गए। इसी तरह वर्ष 2018 में यह संख्या बढ़कर 13 पहुंच गई। जबकि इस वर्ष गुरु अकादमी में शिक्षा ग्रहण करने वालों की संख्या 25 पहुंच गई। इसके अलावा जेईई में भी पांच छात्रों का चयन हुआ। इसके अलावा एचपी पुलिस में 2012, 15 व 16 में भी दर्जनों छात्रों ने परीक्षा पास की इतना ही नहीं टॉपर सूची में गुरू के छात्रों ने स्थान बनाया। जेल वार्डन और अन्य परीक्षाओं में कई छात्रों का चयन हो चुका है।  धर्मशाला में चल रही ई-विंग्स अकादमी ने भी अपनी अकादमी से अब तक दर्जनों छात्र डाक्टर इंजीनियर सहित अन्य महत्त्वपूर्ण पदों तक पहुंचा दिए हैं। अकादमी के वर्ष 2019 के नीट परीक्षा परिणाम को देखें तो 30 छात्रों को परीक्षा पास करवाकर बड़ा रिकार्ड कामय किया है। जिससे संस्थान की विश्ववसनीयता अधिक बढ़ी है। इसके अलावा आईआईटी में तीन, अलाइड में दो, बैंक, पीओ व कलैरीकल में तीन, एचएएस में एक, जेल वार्डन चार, आईएचएम में दो और मिल्ट्री नर्सिंग सर्विस में दो छात्रों ने परीक्षा उर्तीण की है।  धर्मशाला की एससीए अकादमी की विश्वसनीयता का भी छात्र लोहा मानते हैं। अकादमी से वर्ष 2018 में नीट के तीन, जेई मेन में 13, जेई एडवांस, आईआईटी में एक छात्र चयनित हुआ है। एनडीए में चार छात्र चयनित हुए। जबकि वर्ष 2019 नीट में पांच छात्रों का चयन हुआ है। जबकि जेई मेन में 14 और एनडीए में तीन छात्र चयनित हुए हैं।  उधर, आरसीसी के परिणाम पर नजर दौड़ाएं तो वर्ष 2019 में नीट में छह छात्रों ने परीक्षा उर्त्तीण की। जबकि जेई में चार, एनडीए में तीन, बैंक, पीओ में आठ और एसएससी में 22, एलाईड में दो और एचएएस में छात्र चयनित हुए हैं।  हेलियोस अकादमी में वर्ष 2018-19 में अलाइड प्री में 20 से अधिक, अलाईड फाइनल पांच से अधिक, एचएएस प्री में 15 और फाइनल में पांच छात्र चयनित हुए हैं। जबकि जेई इलेक्टिकल एवं सिवल में 50, बैंकिंग, पीओ, क्लर्क में दस छात्र चयनित हो चुके हैं।

You might also like