धवन बोले, हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं…

नाटिंघम – चोटिल होने के कारण विश्वकप के तीन मैचों से बाहरसलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने बुधवार को एक पोस्ट के जरिए संकेत दिए कि उनके लिए टूर्नामेंट अभी समाप्त नहीं हुआ है और वह वापसी के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस 33 वर्षीय बल्लेबाज ने ट्विटर पर उर्दू के शायर राहत इंदौरी की पंक्तियों के जरिए अपने इरादे जताए हैं। उन्होंने पोस्ट किया है कि कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं, कभी धुएं की तरह हम पर्वतों से उड़ते हैं, ये कैंचियां हमें उड़ने से खाक रोकेंगी, कि हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं।

You might also like