नए स्वास्थ्य उपकेंद्रों की अधिसूचना मंजूर नहीं

घुमारवीं—हिमाचल प्रदेश बहु-उद्देश्यीय स्वास्थ्य कर्मचारी महासंघ ने मुख्य स्वास्थ्य सचिव हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा नए उप स्वास्थ्य केंद्रों की अधिसूचना का विरोध किया। महासंघ का कहना है कि जितने भी स्वास्थ्य उपकेंद्र हिमाचल प्रदेश में हंै सब में एक महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता और एक पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता का पद होता है, परंतु जो अभी स्वास्थ्य उप केंद्र गुग्गा-गेहडवीं में खोला जा रहा है, उसमें एकमात्र एक महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता का ही पद सृजित किया है, जबकि पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता का पद खत्म कर दिया गया है। महासंघ के राज्य प्रधान मिलाप शर्मा, महासचिव सुरेश चंदेल, वरिष्ठ उपप्रधान आत्मा राम, उपप्रधान किरण ठाकुर, संजीवनी कुमारी, वित्त सचिव संजीव कतना, मुख्य सलाहाकार वैशाखी राम, संयुक्त सचिव मूरत राम, मुख्य संगठन सचिव राजन शर्मा, लेखाकार मनमोहन सिंह, कमर चंद, संगठन सचिव पवन गुलेरिया, राकेश कुमारी, रमेश कुमार, प्रेस सचिव जोगिंद्र चौहान व जिला बिलासपुर के प्रधान कुलदीप जम्वाल ने कहा कि एक तरफ सरकार शिमला, हमीरपुर और धर्मशाला के स्वास्थ्य संस्थान में पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए प्रशिक्षण का बैच बिठाने की बात कर रही है। उसका महासंघ स्वागत करता है तथा दूसरी तरफ नए बनाए जा रहे  स्वास्थ्य उपकेंद्र में पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता का पद खत्म कर रही है। इसका महासंघ ने विरोध करता किया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार से आग्रह किया कि इस अधिसूचना को रद्द करके दोबारा अधिसूचना जारी की जाए और नए बनाए जा रहे उप स्वास्थ्य केंद्रों में महिला तथा पुरुष स्वास्थ्य कार्यकर्ता का पद सृजित किया जाए, ताकि ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें।

You might also like