नगरकोट धाम से लौटी माता जेएश्वरी

ठियोग —जेएश्वरी माता नगरकोट कांगड़ा में नाहण के बाद वापस टियाली पहुंच गई है। 15 दिनों की इस यात्रा को माता के साथ गए लोगों ने इस यात्रा को पैदल ही पूरा किया और बुधवार को सभी यात्री सकुशल वापस माता के साथ टियाली पहुंच चुके हैं। इस अवसर पर काफी अधिक संख्या में माता के कलेणो तथा प्रमुख कारदारों ने भाग लिया। माता जयेश्वरी हर 12 से 20 साल बाद हिमाचल के नगरकोट कांगड़ा के मां बृजेश्वरी के मंदिर में बने सूरजकुंड में स्नान के लिए जाती हैं। इस परंपरा की खास बात ये है माता को उनके मूल स्थान से नगरकोट कांगड़ा तक ले जाने के लिए भक्त पैदल ही निकलते हैं और 15 दिनों में इस यात्रा को पूरा करते हैं। ठियोग के दलेयां टियाली की माता हर 12 से 20 साल बाद हिमाचल के ही नगरकोट कांगड़ा के मां बृजेश्वरी के मंदिर में बने सूरजकुंड में स्नान के लिए जाती हैं। इस परंपरा की खास बात ये है माता को उनके मूल स्थान से नगरकोट कांगड़ा तक ले जाने के लिए भक्त पैदल ही निकलते हैं और 15 दिनों में इस यात्रा को पूरा करते हैं। इस बार भी 20 सालों के बाद दलयां टियाली की मां जेएश्वरी नगरकोट कांगड़ा माता बृजेश्वरी मंदिर के सूरजकुंड में स्नान करके वापिस आ चुकी है और इस यात्रा में 30 से अधिक लोग माता के गुरों और पुजारी सहित शामिल थे। भक्तों का यह दल मां जेएश्वरी को गुप्त रूप से यानी कि गाची के रूप में स्नान के लिए ले गए थे।

You might also like