नशा नाश ही नहीं, विनाश का भी कारण

चंबा कालेज में अंतरराष्ट्रीय नशाखोरी दिवस के उपलक्ष्य पर आयोजित कार्यक्रम में बोले एएसपी

चंबा —26 जून को विश्वभर में मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय नशाखोरी एवं नशीली वस्तुआंे का अवैध व्यापार दिवस के उपलक्ष्य पर मंगवार को पीजी कालेज चंबा में पुलिस के तत्त्वावधान में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के दौरान रमन शर्मा अतिरिक्त जिला अधीक्षक बतौर मुख्यातिथि व मुख्यवक्ता के रूप में मौजूद रहे । अपने वक्तव्य में उन्होंने कहा कि भारत यूं तो बहुत सारी समस्याओं से ग्रस्त है, लेकिन नशाखोरी आधुनिक समाज की विकराल समस्या बन गई है। नशे को खत्म करना हमारे लिए एक बहुत बड़ी चुनौती है। भारत में  29 प्रतिशत बच्चे नशे के जाल में फंस चुके हैं। पंजाब का वह क्षेत्र जो पाकिस्तान से लगता  है, इन क्षेत्रों में नशा महामारी बन चुका है। इस समस्या के निवारण हेतु सभी को मिलजुल कर काम करना आवश्यक है। उन्होंने नशे के विभिन्न कारण भी बताए। उन्होंने कहा कि पुलिस के साथ शिक्षक वभिन्न विभाग मीडिया इत्यादि को इकट्ठे होकर काम करना होगा। किशोरावस्था के बच्चे नशे के जाल में आसानी से फंस जाते हैं क्योंकि वे नशे के दुष्प्रभावों से अनभिज्ञ होते हैं। नशे के सौदागरों का निशाना किशोरावस्था के बच्चे विशेषकर स्कूल कालेज के विद्यार्थी होते हैं। हमने इससे बचना ही नहीं है बल्कि इसका इलाज करना है इसे जड़ से खत्म करना है। इसके लिए समाज के सभी वर्गों विभागों, खंडों का साथ एक होकर काम करना आवश्यक है। इस दौरान पुलिस विभाग से एएस आई नाजेंद्र कुमार, प्रभारी पुलिस चौकी सुल्तानपुर डा. ज्योतिंद्रा ठाकुर, प्रो. परविंद्र कुमार, प्रो. अविनाश,  प्रो. शेल्ली महाजन, प्रो. पूर्णिमा शर्मा, डा. हेमंत पाल, प्रो. सुमित, डा. संतोष, डा. अजय, प्रो. आशीष शर्मा, प्रो. मीनाक्षी, प्रो. हाकम चंद, प्रो. केहर सिंह, रविंद्र सिंह व संजय शर्मा सहित अन्य मौजूद रहे।

You might also like