नेशनल पार्क में घुसा जंगली सूअर

सैंज —विश्व धरोहर नेशनल पार्क में वन विभाग द्वारा पिछले कई दशकों से बचाए गए वन्य जीवों का जीवन खतरे में पड़ गया है। यह बात नेशनल पार्क के अधिकारियों ने विश्राम गृह रोपा में प्रेस वार्ता के दौरान कही। ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के रोपा स्थित वन विश्राम गृह में पार्क प्रबंधन की ओर से रखी प्रेस वार्ता में रेंज आफिसर एलसी ठाकुर ने बताया कि ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क की तीर्थन रेंज के वासु में लगे ट्रैप कैमरा से जंगली सूअर घुसने का प्रमाण मिला है, जो पार्क में संरक्षित जीवों की जान के लिए खतरा है। वहीं, गर्म इलाके में रहने वाले इस जीव के यहां आने से जलवायु के लिए भी खतरे का संकेत है। वहीं, पार्क एरिया में खतरनाक जीव आने से विभाग के हाथ-पांव भी फूल गए हैं। नियमानुसार नेशनल पार्क में किसी भी तरह के हथियार ले जाने पर पाबंदी है, जिसके कारण यहां आए जंगली सुअर को मारना भी मुश्किल है। ज्ञात हो कि ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क वर्ष 1984 में बना है और वर्ष 2014 में इसे विश्व धरोहर का दर्जा मिला। उधर, एलसी ठाकुर, भूपेंद्र शर्मा तथा तेजा सिंह ने बताया कि ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में राज्य पक्षी जुजुराना की संख्या में भी बढ़ोतरी पाई गई है। उन्होंने कहा कि प्रबंधन की ओर से की गई गणना में जुजुराना नामक पक्षी की संख्या अधिक पाई गई। यहां तक कि जिन क्षेत्रों में जुजुराना होता ही नहीं था वहां भी जुजुराना देखा गया। इसके अतिरिक्त क्षेत्र में पर्यावरण संरक्षण को लेकर लोगों को जागरूक करने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नेशनल पार्क की ओर से 400 स्थानीय युवाओं को भी प्रशिक्षित किया गया, जिनके माध्यम से पार्क क्षेत्र में आने वाली खंडाधार, जिल्ही नइना, शतोगणि, रकतीसर जैसे क्षेत्रों को विश्व के मानचित्र में लाया जा सकता है। इस अवसर पर रेंज ऑफिसर तेजा सिंह, भूपेंद्र शर्मा, एलसी ठाकुर, वन खंड अधिकारी रोशन लाल, वन रक्षक शमशेर ठाकुर इत्यादि उपस्थित रहे।

You might also like