नोगली में शाड़ की जातर मेले का आगाज

रामपुर बुशहर—देवताओं के आगमन के साथ नोगली मंे शाड़ की जातर मेले का आगाज हो हुआ। देवता साहिब लक्ष्मी नारायण कुमसू की अगवाई में आयोजित हो रहे इस मेलें में इस बार देवता साहिब शिंगला, देवता साहिब शनेरी, देवता साहिब दमुख डंसा और देवता साहिब कशोली विशेष रूप से पहंंुचे है। आगामी तीन दिनों तक नोगली में ये मेला चलेगा। जिसको लेकर क्षेत्र के ग्रामीणों में काफी आस्था देखी जाती है। देव आस्था से जुड़े लोग दूर दूर से मेलें मे भाग लेकर देवताओं का आर्शिवाद लेने के लिए मेलें में पहुंच रहे है। गौरतलब है कि भड़ावली पंचायत में स्थित लक्ष्मी नारायण देवता पहले अपने पूरे क्षेत्र का भ्रमण करते है। इस दौरान वे कुमसू, खखरोला, राजपुरा, मसारना, करेरी, कमलाऊ छलावट और भड़ावली गांव का दौरा करते हैं। इसके बाद फिर से लक्ष्मी नारायण देवता अपने मंदिर कुमसु में पहुंचते हंै और अंत में नोगली पहुंचते हैं। उनके यहां पर शरीक होते ही नोगली मेला शुरू हो जाता है। हर गांव में उनका पारंपरिक तरीके से भव्य स्वागत किया जाता है। इस दौरान गांव के लोग लक्ष्मी नारायण से पूरे वर्ष सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त करते हंै। नोगली मेले में मुख्य आयोजक लक्ष्मी नारायण देवता सभी बाहर से आए देवताओं का स्वागत करते है। बुधवार दोपहर बाद नोगली मेले के प्रांगण में देवलुओं की भीड़ जुटना शुरू हो गई। सभी देवता अपने देवलुओं के साथ प्रांगण में नाचते गाते पहुंचे। हर देवता के साथ आए देवलुओं ने अपनी अपनी जगह पर देवता को विराजमान किया। दोपहर बाद मेला मैदान में काफी लोग उमड़ गए। मेले में आया हर व्यक्ति देवता के दरबार में नतमस्तक हो रहा था। खासकर महिलाओं में अपने इष्ट देव के दर्शन करने के लिए खासा उत्साह दिखा। अपने क्षेत्र से दूर दराज ब्याही गई महिलाओं के लिए इस मेले में अपने देवता के दर्शन व अपनों से मिलने का एक विशेष मौका रहता है।

 

You might also like