पंचायतों में ई-टेंडरिंग का फैसला वापस ले विभाग

6नारकंडा -पर्यटन नगरी नारकंडा में प्रधान परिषद नारकंडा की विशेष बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता परिषद के अध्यक्ष अमरसिंह नलवा ने की। बैठक में पंचायतों के विभिन्न मुददों पर विस्तार से चर्चा की गई और नारकंडा ब्लाक के सभी 26 प्रधानों ने पंचायती राज विभाग द्वारा मनरेगा को छोड़कर सभी कार्यों को ई-टेंडरिंग से करवाने के निर्णय का विरोध जताया। बैठक में इस बात का विरोध भी किया गया कि यदि ग्राम पंचायत में पारित शैल्फ  को जिला स्तरीय कमेटी पास करने व निरस्त करने का अधिकार रखती है तो न तो ग्राम सभा और न ही पंचायत लोगों की कोई अहमियत रहेगी। प्रधान परिषद नारकंडा अध्यक्ष अमर सिंह नलवा ने कहा कि कहा कि ई-टेंडरिंग 73वें संशोधन की मूल भावना और सुमित बॉस की सिफारिशों के विपरीत है। यदि यह व्यवस्था लागू की जाती है तो पंचायत प्रधान का कार्य केवल साफ -सफाई और भांग उखाड़ने का रह जाएगा। प्रधान परिषद द्वारा इस आशय का प्रस्ताव पारित कर बीडीओ नारकंडा के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा गया और मुख्यमंत्री से मांग की गई कि वो इस बारे में शीघ्र हस्तक्षेप कर पंचायती राज विभाग को इन अनुचित निर्णयों को वापिस लेने के निर्देश दें। प्रधान परिषद ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि शीघ्र कार्रवाई नहीं की गई तो प्रधान परिषद नारकंडा आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेगी और सामूहिक इस्तीफा देने से भी गुरेज नहीं करेंगे। बैठक में प्रधान परिषद के अध्यक्ष अमर सिंह नलवा, प्रधान जार आरती निर्मोही, प्रधान जजेंहली पिंकी ठाकुर, प्रधान जरोल सुशीला श्याम, प्रधान सिंहल हरीश भ्रौटा, प्रधान मधावनी रोशनलाल, प्रधान कांगल रोशनी देवी, प्रधान मैलन नेहा धर्मा, जदूण प्रधान जोगिंद्र श्याम, खनेटी प्रधान राजेंद्र, कोटगढ़ प्रधान कैलाश, शिवान प्रधान गुडडी देवी, किरटी सुनिता गुप्ता, शमाथला मीना जरेट, प्रधान नरेन्द्र कुमार, बड़ागांव प्रधान योद्धराज ठाकुर, मोगड़ा  प्रधान नंदलाल  उपस्थित रहे।

You might also like