पट्टा मोड़ के पास डंगा धंसा गिरि पेयजल पाइप लाइन संकट में

धर्मपुर—कालका-शिमला नेशनल हाई-वे पांच पर पट्टा मोड़ के समीप डंगा धंसने से गिरि पेयजल पाइप लाइन पर संकट के कटे बदल मंडरा रहे है। इसके कारण गिरि पेयजल पाइप का एक हिस्सा हवा में अटक गया है जोकि कभी भी टूट सकती है। हालांकि सिंचाई एवं-जनस्वास्थ्य विभाग द्वारा इस लाइन को बदलने लिए कहा गया है ताकि समय रहते पेयजल पाइप को बदला जा सके।गौरतलब हो कि कालका-शिमला नेशनल हाई-वे पांच पर परवाणू से सोलन(चंबाघाट) तक फोरलेन निर्माण कार्य चला हुआ है। इसको लेकर सड़क के दोनों ओर ढंगों का निर्माण किया जा रहा है लेकिन एक-दो जगहों पर डंगे धंस गए है। अब मामला पट्टा मोड़ के समीप पेश आया है जहां पहले डंगा लगा सड़क को तैयार किया गया था लेकिन किसी कारण इस सड़क पर पुनः जेसीबी का पंजा चला है। जेसीबी चलने से सड़क के किनारे बना डंगा धंस गया और डंगे के ऊपर से गुजर रही गिरि पेयजल योजना की पाइप लाइन हवा में अटक गई है। यदि समय रहते इस पाइप को दूसरी जगह शिफ्ट न किया गया तो यह पाइप टूट जकती है। बता दे कि सड़क के किनारे पाइप को चेंज करने का कार्य भी फोरलेन निर्माता कंपनी द्वारा ही किया जा रहा है। कयास लगाए जा रहे है कि यदि यह पाइप लाइन टूट गई तो इसे ठीक करने में काफी समय लग सकता है और धर्मपुर व साथ लगते क्षेत्रों में फिर पेयजल समस्या हो सकती है। धर्मपुर व आसपासकी जनता की प्यास बुझाने के लिए गर्मियों में केवल गिरि पेयजल योजना ही एकमात्र सहारा है और अभी तक सिंचाई एवं-जनस्वास्थ्य विभाग रोजाना गिरि योजना की सप्लाई धर्मपुर में दे रहा है इसके चलते धर्मपुर में पेयजल समस्या काफी हद तक कम ही गई है। लोगों को तीसरे दिन पेयजल उपलब्ध हो रहा है लेकिन हवा में लटकी पाइप को लेकर फिर एक बार टेंशन होंने लगी है। वहीं डीपीएम जीआर इंफ्रास्ट्रक्चर सुशील आहूजा ने बताया कि सड़क के ठीक नीचे रेलवे लाइन होने के चलते सड़क का भार कम किया जा रहा है और यह सब निर्धारित ड्राइंग के अनुसार चला है। यहां पर डंगा नहीं धंस है और पाइप को शिफ्ट का कार्य जल्द शुरू हो जाएगा।

You might also like