पर्यटन सीजन शुरू…सड़क पर गड्ढे

कुल्लू—जिला कुल्लू अंतर्गत पड़ने वाली भुंतर-मणिकर्ण सड़क अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है। यह सड़क प्रशासन लोक निर्माण विभाग व सरकारों के निटठ्ले का एक जीता जागता उदाहरण है।  मणिकर्ण घाटी की सभी सड़कों की हालत आजकल बेहद खराब है। पिछले दो-तीन दिनों के भीतर सैलानियों की संख्या काफी बढ़ी है, लेकिन सड़क की हालत देखकर सैलानी व श्रद्धालु कतरा रहे हैं। सड़क जगह-जगह गड्ढों में तबदील हो गई है। सड़क खस्ता होने के कारण चालकों, श्रद्धालुओं व पर्यटकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं डूंखरा से मणिकर्ण सड़क खस्ता होने के साथ कई जगहों पर काफी तंग है। इसके बावजूद सुरक्षा नाममात्र की ही है। वहीं मणिकर्ण घाटी के पर्यटन कारोबारियों को भी नुकसान झेलना पड़ रहा है।  किसानों व बागबानों ने प्रदेश सरकार, जिला प्रशासन व लोक निर्माण विभाग से सड़क की हालत सुधारने की मांग  पिछले एक दशक से कर रहे हैं, लेकिन इस सड़क को नाममात्र का सुधारा जाता  है। हर वर्ष मणिकर्ण घूमने के लिए लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं, लेकिन  उन्हें गड्ढों और उबड़-खाबड़ सड़क से परेशान होना पड़ता है। इसका खामियाजा होटल व पर्यटन कारोबारियों को भुगतना पड़ रहा है। सड़क की खस्ताहालात व प्रशासन की लचर प्रणाली से जहां घाटी के लोगों में भारी रोष है। वहीं, पर्यटन व्यवसायी भी लोक निर्माण विभाग की लापरवाही से काफी रोषित हैं। मणिकर्ण होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष किशन ठाकुर का कहना है कि पर्यटन सीजन शुरू हो गया है। लेकिन सड़क की हालत इतनी खराब है कि देश-विदेश से आने वाले पर्यटक कतराने लगे है। उन्होंने कहा कि पर्यटन सीजन आने से पहले सरकार, प्रशासन और लोक निर्माण विभाग को बदहाल सड़क की मरम्मत करने की गुहार लगाई जाती है। लेकिन घाटी के लोगों की इस मांग को अनदेखा किया जाता है। विभाग से आग्रह है कि सड़क की हालत को सुधारा जाए। उधर, एडीएम कुल्लू अक्षय सूद ने बताया कि विभाग को तेजी से सड़क की मरम्मत कार्य करने के निर्देश दिए जाएंगे।

You might also like