पर्यावरण प्रेमियों को पुरस्कार

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शिमला में पर्यावरण उत्कृष्ट सम्मान-2019 से नवाजी हस्तियां 

शिमला — पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान जागरूकता सामग्री का विमोचन करते मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व अन्य

शिमला – मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पर्यावरण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा आयोजित राज्य पर्यावरण उत्कृष्ट पुरस्कार 2018-19 के वितरण समारोह में पुरस्कार वितरित किए। राज्य स्तरीय उत्कृष्ट ईको-क्लब पुरस्कार श्रेणी में राजकीय वरिष्ठ मध्यमिक पाठशाला प्रेसी जिला मंडी के देवदर ईको-क्लब, ग्रीन आर्मी ईको-क्लब, जिला सिरमौर के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला नाहन और चादन ईको-क्लब राजकीय वरिष्ठ माध्यम पाठशाला चम्बा को प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय पुरस्कार प्रदान किए गए। मुख्यमंत्री रोलिंग ट्रॉफी हरित स्कूल कार्यक्रम के तहत चेंजमेकर स्कूल श्रेणी में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशला भोहली जिला सोलन को प्रथम, हिम अकादमी पब्लिक स्कूल विकास नगर जिला हमीरपुर को द्वितीय पुरस्कार प्रदान किए गए, जबकि न्यू एंटरेट स्कूल श्रेणी में राजकीय उच्च पाठशाला कोटली जिला सोलन को प्रथम और प्राथमिक पाठशाला श्रेणी में जीसीपीएस भोजनगर जिला सोलन को द्वितीय पुरस्कार दिया गया। इस कार्यक्रम के दौरान कई नामी हस्तियां मौजूद रहीं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने लोगों को स्वच्छता को हर कदम पर अपनाने का आह्वान किया।

वैश्विक ऊष्मीकरण खेती-उद्योगों के लिए खतरा

हिमाचल प्रदेश में वैश्विक ऊष्मीकरण आने वाले समय में कृषि और उद्योगों के लिए बड़ा खतरा पैदा कर सकता है। राज्य सरकार ने पर्यावरण दिवस के मौके पर यह बात कही और कहा कि अगर वैश्विक ऊष्मीकरण पर जल्द कंट्रोल नहीं किया गया, तो आने वाले समय में इसका ज्यादा नुकसान हिमाचल में किसानों को झेलना पड़ सकता है। दूसरे राज्यों की तर्ज पर हिमाचल में भी कई बड़े-बड़े उद्योग और ग्रीन हाउस की गैसें भारी संख्या में निर्मित की जा रही हैं। इस वजह से धरती पर सूरज की आने वाली सीधे किरणें नहीं पड़ पा रही हैं। भले ही पर्यावरण दिवस के मौके पर सरकार ने यह कहा हो कि बड़े-बड़े हितधारकों की राय लेने के बाद हिमाचल की जलवायु को दूषित हवा से बचाने का प्रयास किया जाएंगा।

जिला सोलन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन

जिला सोलन को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले जिले के रूप में चुना गया। इसके अतिरिक्त चित्रकला प्रतियोगिता के जूनियर तथा सीनियर श्रेणी के विजेताओं को भी पुरस्कार वितरित किए गए। निदेशक, पर्यावरण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी डीसी राणा ने कहा कि राज्य सरकार ने पर्यावरण संरक्षण और सत्त विकास को बढ़ावा देने में संस्थानों/ व्यक्तियों द्वारा उत्कृष्ट/ उल्लेखनीय योगदान को मान्यता देने के लिए ‘हिमाचल प्रदेश पर्यावरण नेतृत्व पुरस्कार’ प्रतिवर्ष प्रदान किया जाएंगे। प्रेरक और अनुकरणीय पहल, परिवर्तनकारी कार्यवाही के माध्यम से राज्य के विभिन्न श्रेणियों के व्यक्तियों/ गैर सरकारी संगठनों/संस्थानों को एक प्रतियोगी प्रक्त्रिया के माध्यम से पुरस्कार के लिए चुना गया था।

इन्हें मिला एन्वायरनमेंट लीडरशिप अवार्ड

जिला शिमला में ग्राम पंचायत वर्ग से शिमला की धमून व चंबा के ककीरा कस्बा को फर्स्ट, कांगड़ा की आइमा व सिरमौर की लाना भाल्टा को दूसरा स्थान हासिल हुआ है। वहीं, इंडिविजुवल कैटेगिरी में डिप्टी डीईओ एलीमेंटरी एजुकेशन नरेंद्र सिंह जम्वाल को पहला व चितकारा विश्वविद्यालय के वीसी प्रो. वरिंद्र सिंह कंवर व पुलिस विभाग के हैड कांस्टेबल जवाहर लाल को दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है। एनजीओ में अंबुजा सीमेंट फाउंडेशन व सेल्फ हेल्प ग्रुप को पहला, ‘दिव्य हिमाचल’ प्रकाशन प्राईवेट लिमिटेड व लाहुल-स्पीति पर्यावरण संरक्षण समिति को दूसरा स्थान मिला है। इंडस्ट्री में एसीसी के गगल सीमेंट वर्क्स को पहला, एडी हाइड्रो पावर लिमिटेड व इंडोरमा इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड को दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है। यूएलबी कैटेगिरी से एमसी घुमारवीं को सेकेंड प्राइज मिला है। स्कूल से वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला संगड़ाह को फर्स्ट, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशला कुजी और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला राजपुरा को सेकेंड अवार्ड मिला है। इसके अलावा पर्यावरण संरक्षण में बेहतर कार्य करने वाले विभिन्न संस्थानों को सम्मानित किया गया।

You might also like