पहाड़ों पर गर्मी ने छुड़ाए पसीने

शिमला —पहाड़ों की रानी शिमला  में भी सूरज की किरणें कहर बरपा रही है। शिमला में जहां दिन के समय सूरज की किरणे आग उगल रही हैै। वही रातों को भी भीषण गर्मी ने लोगों के पसीने छुडा दिये है। भीषण गर्मी से बचने के लिए लोगों को छाव की ओट का सहारा लेते हुए देखा गया। मौसम विभाग की माने तो जिला शिमला में शरिवार को भी मौसम रौद्र रूप दिखाएगा। विभाग ने इस दौरान कुछ स्थानों पर उष्ण लहरों के चलने की सभावना जताई है। जो शिमलावासियों की दिक्कतें ओर बढा सकता हैै। शिमला में शुक्रवार को मौसम साफ बना रहा। जिला के अधिकाशं क्षेत्रों में दिन भर धूप खिली रही। तेज धूप से बचने केे लिए लोगों को सुबह ेसेे छावं तलाशते हुए देखा गया। शिमला में शुक्र्रवार को गर्मी  का  प्रकोप इतना रहा कि दिन के समय शिमला का रिज व मॉॅल रोड सुनसान दिखा। शहर के अधिकतर क्षेत्रों में लोगों को गर्मी से बचने के लिए छाव तलाशते हुए देखा गया। शिमला के अधिकतम व  न्यूनतम तापामन मेे ं एका एक भारी उछाल आने से दिन  के समय लोग घरों में कैद होने को मजबूर हो गए है। ऐसे में यदि शनिवार  को मौसम ओर आग उगलता है तो पहाडों पर भी गर्मी से बचने के लिए लोगों को मजबूर हो कर घरांे में कैद होना  पडेगा।

तीन और चार जून को तूफान

मौसम विभाग की माने तो जिला शिमला  में तीन व चार जून को तूूफान चलेगा। विभाग ने जिला में तूफान की  गति 40 से 50 किलोेमीटर प्रति घंटा या इससे अधिक होेने का पूर्वानुुमान लगाया है। जिला में तूफान से गर्मी से कुछ हद तक की राहत आ सकती है। मौैसम विभाग की माने तो जिला शिमला में एक से चार जून तक मौसम खराब बना रहेगा। इस दौरान कुछ स्थानों पर बारिश होने की सभावना जताई जा रही है।

वर्ष 2010 में दर्ज किया गया था 32 डिग्रीे पारा

जिला शिमला मेंं साल 2010 के दौैरान सबसे अधिक अधिकतम तापमान रिकॉॅर्ड किया गया था। इस दौरान शिमला में अधिकतम तापमान 32.4 डिग्री आंका गया था। साल 2016 में शिमला में अधिकतम तापमान 29 डिग्री आंका गया था। इस बार चार साल बाद शिमला का पारा इतना अधिक रिकॉर्ड किया गया है।

You might also like