पांगी की कविता ने नीट में झटका 518वां रैंक

कांगड़ा । दुर्गम इलाके की विपरीत परिस्थितियों  का सामना करते हुए पांगी की कविता ने ऑल ओवर इंडिया में 518वां रैंक प्राप्त कर जिला का नाम रोशन किया है।  कविता ने बताया कि वह अकसर अपने घर से साच दर्रा पार कर 24 घंटे के सफर के बाद चंबा पहुंचती थी और जब क्षेत्र में बर्फबारी के बाद यह दर्रा बंद हो जाता था उसे जम्मू होकर चंबा पहुंचना पड़ता था । उसने जमा दो की पढ़ाई राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक कन्या विद्यालय चंबा से करने के बाद कांगड़ा के अग्रणी कोचिंग संस्थान पीएसडी विद्यामंदिर से कोचिंग ली और यह मुकाम हासिल किया। कविता ने सरकार से भी मांग की है कि वह पांगी जैसे दुर्गम क्षेत्र में शिक्षा के विकास के लिए कुछ करें, तांकि यहां से ओर ज्यादा डाक्टर तथा इंजीनियर निकल सकें।  कविता की माता गृहणी है पिता प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक है । कविता ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता तथा  पीएसडी विद्यामंदिर की मैनेजमेंट और अध्यापकों को दिया है।

You might also like