पांच साल बाद इतना तपी हिल्सक्वीन

शिमला —हिल्सक्वीन शिमला में भी सोमवार को सूरज की किरणों ने लोगांे को जमकर तर बतर किया। शिमला मंे अधिकतम तापमान 30.3 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड  किया गया है, जो साल 2014 के बाद इतना अधिक आंका गया है। शिमला मंे वर्ष 2014 के दौरान अधिकतम तापमान 31.4 डिग्री दर्ज किया गया था। शिमला में पांच साल के बाद इतना अधिक तापमान रिकॉर्ड किया गया है। शिमला मेंं सोमवार को भी मौसम साफ बना रहा। जिला शिमला के अधिकांश क्षेत्रों में दिन भर धूप खिली रही। धूप खिलने से तापमान में फिर से उछाल आया है। अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की बढ़ोत्तरी के साथ ही शिमला का पारा 30 डिग्री से पार हो गया है। शिमला में अधिकतम तापमान 30.3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया, जो इस सीजन का सबसे अधिक तापमान आंका गया है। तापमान में उछाल आने से हिल्सक्वीन शिमला में भी जनता को प्रचंड़ गर्मी से बचने के लिए छांव तलाशते हुए देखा गया। शिमला में दोपहर के  समय भीषण गर्मी का प्र्रकोप देखा गया। गर्मी ने लोगों को जमकर तर-बतर किया। शहर के साथ ऊपरी शिमला में भी गर्मी का कहर देखा गया। शिमला के अधिकतम तापमान में बढोतरी के साथ-साथ न्यूनतम तापमान मंे भी उछाल रिकॉर्ड किया गया है। शिमला का न्यूनतम तापमान भी 20 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने लगा है। ऐसे में जनता को प्रचड़ गर्मी की मार झेलनी पड़ रही है। शिमला में गर्मी की मार झेल रहे लोगों के लिए राहत भरी खबर है कि आज आसमान से राहत की फुहारें बरस सकती हैं। मौसम विभाग ने जिला शिमला मेंं अगामी दो दिनों तक बारिश व तूफान चलने  की चेतावनी जारी की है। इस दौरान तापमान में गिरावट आने की संभावना जताई जा रही है। मौसम विभाग की मानें तो जिला शिमला में 16 जून तक मौसम खराब बना रहेगा।

शिमला में शाम के समय चलीं ठंडी हवाएं

शिमला में दिन के समय जनता को प्रचंड़ गर्मी का सामना करना पड़ा। शाम के समय शिमला में हल्की ठंडी हवाएं चलीं, जिससे प्रचंड गर्मी की मार झेल रहे लोगों को कुछ हद तक की राहत लेते हुए पाया गया। मगर शिमला में न्यूनतम तापमान अधिक आंका जाने से लोग प्रचंड गर्मी से बेबस दिखे। 

You might also like