पांच सौ किलोमीटर की दौड़ पूरी कर नाहन पहुंचे सुनील

नाहन—पांच मासूम जिंदगियों को  बचाने के लिए  भीषण गर्मी के बीच जिला सिरमोर व सोलन की  ऊंची नीची  सड़कों पर सरपट दौड़ते  जाने-माने अल्ट्रामैराथनर धावक सुनील शर्मा  आखिरकार रविवार देर शाम  करीब 500 किलो मीटर का सफर तय कर  नहान के ऐतिहासिक चौगान मैदान में पहुंच गए  सुनील शर्मा  के साथ  पैरा एथलीट वीरेंद्र सिंह व सुनील के अन्य सहयोगी भी  चैरिटी रन को समाप्त कर नहान चौहान में  पहुंचे इस दौरान स्थानीय लोगों ने धावक सुनील शर्मा व उसके सहयोगियों का भव्य स्वागत किया । हिमाचली चीते के नाम से मशहूर सुनील शर्मा की चैरिटी के लिए शुरू की गई  सिरमौर रन तीन  के माध्यम से सुनील शर्मा ने रविवार को एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया ।मौसम में विभिन्न प्रकार के बदलाव के बीच आखिर सुनील रविवार देर शाम नाहन पहुंचे। पांच लोगों की जान बचाने के लिए पसीना बहा रहे धावक व सिरमौरी लाल सुनील शर्मा ने तीन जून को उत्तर भारत के प्रसिद्ध शक्तिपीठ मां बाला सुंदरी के प्रांगण से चैरिटी रन  को भीषण गर्मी के बीच करीब 40 डिग्री तापमान पर शुरू की । करीब 65 किलोमीटर के सफर के बाद पावंटा साहिब पहुंचने तक तापमान 45 डिग्री छू गया। रास्ते में तापमान का उतार.चढ़ाव भी चलता रहाए इसके बाद पावंटा साहिब से शिलाई की दौड़ आसान नहीं थी। चढ़ाई के साथ.साथ तापमान में गिरावट दर्ज होनी शुरू हो गई।शिलाई से रोनहाट के बीच  दौड़ पूरी करते हुए सुनील ने गजब का साहस दिखाया।यही नहीं  रोनहाट से हरिपुरधार का सफर शुरू हुआ तो सामने पहाड़ के बीच लगभग 25 किलोमीटर की चढ़ाई अपने आप में सांस फुला देने वाली थी। चैरिटी रन के अंतिम पड़ाव के तहत रविवार को सुनील ने यह दौड़ समाप्त की। बताया जा रहा है कि हिमाचल में सुनील शर्मा ही पहले अल्ट्रा मैराथन धावक है, जिन्होंने लगभग 500 किलोमीटर का सफर सात दिन में  जिला के उबड-खाबड़ रास्तों के इलावा हाई-वे पर पूरा किया है। रविवार शाम को चौगान मैदान में रोगियों मदद के लिए चैरिटी शो  का आयोजन भी किया। गौर हो कि सुनील के जज्बे से सिरमौर के पुलिस अधीक्षक अजय किशन शर्मा भी इस कद्र प्रभावित हुए है कि उन्होंने भी कालाअंब की गर्मी में चार किलोमीटर की दौड़ पूरी की। संगड़ाह के रहने वाले दिव्यांग वीरेंद्र ने भी लगभग 100-150 किलोमीटर की दौड़ लगाई।

You might also like