पांवटा अस्पताल में हाइटेक लैब जल्द

पांवटा साहिब—पांवटा साहिब के सिविल अस्पताल में टीबी जांच की उच्च तकनीक लैब सेवा शीघ्र आरंभ की जाएगी। यह बात पांवटा सिविल अस्पताल में टीबी जांच व उपाचार केंद्र में निरीक्षण को पहुंची केंद्रीय टीम ने कही। उन्होंने कहा कि अस्पताल में टूबीनेट मशीन लगाई जाएगी, जिससे टीबी के मरीजों को आधुनिक सेवाओं का लाभ मिलेगा। जानकारी के मुताबिक पांवटा साहिब सिविल अस्पताल में टीबी केंद्र पर निरीक्षण के लिए केंद्रीय टीबी रोकथाम की टीम पहुंची, जिसने सिविल अस्पताल में रोगियों व डाक्टर्स से बात कर जानकारियां एकत्रित की। इस दौरान टीम के सदस्य आसिफ सफी ने बताया कि केंद्र सरकार की मदद से हिमाचल प्रदेश को 2021 तक टीबी मुक्त किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा पांवटा शहर सिविल अस्पताल को टीबी टेस्ट के लिए टूबीनेट मशीन लगाई जा रही है, जिससे नाहन जाने वाले टेस्ट अब पांवटा साहिब में ही हो पाएंगे। इसके अलावा उन्होंने बताया कि टीबी के मरीजों का इलाज सरकारी अस्पतालों में बिलकुल मुफ्त किया जाता है। साथ ही टीबी के मरीजों को 500 रुपए प्रतिमाह डाइट के लिए भी दिए जाते हैं। यह पैसा मरीजों के खाते में जाता है। उन्होंने बताया कि यदि कोई निजी चिकित्सक टीबी की जांच और उपचार करता पाया गया तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। बीएमओ राजपुरा उदय ठाकुर व इंचार्ज टीबी केंद्र पांवटा सिविल अस्पताल डा. केएल भगत ने बताया कि पांवटा साहिब के टीबी केंद्र से सभी मरीजों का इलाज पूरी ऐहतिहात के साथ किया जा रहा है। विशेष रूप से ऐसे लोगों पर निगरानी रखी जाती है जो कि संदेह के घेरे में हैं। इसके अलावा समय-समय पर टीबी मरीजों के घर जाकर ही उनकी स्थिति का भी जायजा लिया जाता है।

You might also like