पांवटा की संसद में हुई चमकी बुखार पर बहस

पांवटा साहिब—पांवटा साहिब के पुरुवाला स्कूल में मंगलवार को संसद बैठी। इस संसद की कार्यप्रणाली के दौरान बिहार में फैल रहे चमकी बुखार से हुई सैकड़ों बच्चों की मौत पर विपक्ष ने सत्तासीन सरकार को खूब घेरा। कार्यक्रम जिला स्तरीय युवा संसद कार्यक्रम का था। यह प्रतियोगिता राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय पुरुवाला पांवटा साहिब में आयोजित हुई। विद्यालय के प्रधानाचार्य यशपाल सिंह ने बताया कि जिला सिरमौर की नौ खंडों की विजेता टीम के लगभग 280 छात्र-छात्राओं ने इस प्रतियोगिता में भाग लिया, जिसमंे अंबोया, बांदली ढांढस, ददाहू, देवामालन, मिल्लाह, राजगढ़, नारग, पुरुवाला, कफोटा की टीमंे शामिल रही। इस मौके पर हायर एजुकेशन के डिप्टी डायरेक्टर दिलबर जीत चंद्र, पुरुवाला स्कूल के प्रधानाचार्य यशपाल सिंह, अधीक्षक आकाश बिश्नौई, नोडल आफिसर राजेश गुप्ता, मुकेश कुमार अधीक्षक, योगराज मित्तल, विशाल कुमार, कामराज चौहान, केसर सिंह, अरुण ठाकुर, शीला आदि मौजूद रहे। जज की भूमिका प्रधानाचार्य बातामंडी गोरखनाथ चौधरी, संजीव नौटियाल प्रधानाचार्य बर्मापापड़ी और भगत राम चौहान प्रधानाचार्य निहालगढ़ ने निभाई। इस प्रतियोगिता का उद्देश्य युवाओं को लोकसभा संसदीय कार्यप्रणाली के बारे में अवगत करवाना रहा। इस प्रतियोगिता में युवाओं ने संसद में शपथ से लेकर पुलवामा शहीदों के लिए दो मिनट का मौन भी रखा। उसके बाद मुद्दों पर बहस शुरू हुई। नोटबंदी मुद्दे को लेकर विपक्ष ने प्रश्नकाल में नोटबंदी के उपर प्रश्न किया, जिसके बाद तर्क-वितर्क का दौर चला। विपक्ष के मुताबिक यह निर्णय सरासर गलत है, जबकि पक्ष का कहना था कि इससे कालाधन मंे रोक लगी है। इसके बाद चमकी बुखार के मुद्दे पर देश की जनता ने नेताओं को विदेशों में घूमने के लिए चुना है क्या, विश्व मंे पूरे भारत की पहचान बनाई है, विदेशी कंपनी देश मंे रोजगार देने के लिए कार्य कर रहे हैं, पाकिस्तान के साथ रिश्ते के बारे सहित युवा संसद में हिमाचल आदि अन्य प्रदेशों में छात्रवृत्ति घोटाले आदि मामलों की गूंज सुनाई दी, जिसमें सीबीआई के द्वारा जांच चल रही है। इस प्रतियोगिता के जरिए सरकार के द्वारा चलाए जा रही आयुष्मान, उज्ज्वला, जननी, स्वास्थ्य, सुरक्षा आदि योजनाओं के बारे में भी चर्चा की गई तथा सभी को स्कूली बच्चों के माध्यम से लोकसभा की कार्रवाई देखने को मिली।

You might also like