पिपलू मेला… धीरज शर्मा ने नचाए दर्शक

पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने किया मेले का शुभारंभ, कुश्तियां-सांस्कृतिक कार्यक्रम बढ़ा रहे शोभा

बंगाणा -ऊना जिला का प्राचीन एवं ऐतिहासिक तीन दिवसीय पिपलू मेला पारंपरिक पूजा अर्चना एवं झंडा रस्म के साथ शूरू हो गया। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत कर मेले का शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता हिमुडा के उपाध्यक्ष प्रवीण शर्मा ने की। जबकि एचआरटीसी के उपाध्यक्ष विजय अग्निहोत्री बतौर विशेष अतिथि मौजूद रहे। इस अवसर पर वीरेंद्र कंवर ने विभिन्न विभागों की विकासात्मक प्रदर्शनियों, पशु मंडी विशेषकर गो मंडी, कुश्ती प्रतियोगिता तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी शुभारंभ किया। इस मौके पर वीरेंद्र कंवर ने पिपलू मेला को लेकर प्रकाशित एक स्मारिका का भी विमोचन किया। इससे पहले पारंपरिक ढ़ोल-नगाडों, पारंपरिक वाद्ययंत्रों एवं बैंड-बाजों के साथ मेला कमेटी द्वारा मुख्यातिथि वीरेंद्र कंवर, हिमुडा उपाध्यक्ष प्रवीण शर्मा तथा एचआरटीसी के उपाध्यक्ष विजय अग्निहोत्री का पारंपरिक वाद्ययंत्रों के साथ भव्य स्वागत किया गया। इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने प्रदेश व जिलावासियों को जिला स्तरीय ऐतिहासिक पिपलू की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह मेला कांगड़ा, हमीरपुर तथा ऊना जिलों के धार्मिक के साथ-साथ सांस्कृतिक मिलन का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि इस मेले में लोग पूरी आस्था के साथ भगवान नरसिंह के चरणों में शीश नवाने पहुंचते हैं तथा अपनी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं। उन्होंने कहा कि पिछली भाजपा सरकार के दौरान मेले को एक नया स्वरूप प्रदान कर इसे जिला स्तरीय मेले का दर्जा प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि मेले में श्रद्धालुओं के मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों की भी शुरुआत की गई है।

मेले में खेलों को बढ़ावा देने के लिए कबड्डी, वालीबाल तथा कुश्ती प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं बारे लोगों में व्यापक जन जागरूकता लाने के लिए विभिन्न विभागों की विकासात्मक प्रदर्शनियां भी लगाई गई हैं। इसके अलावा पशु मंडी एवं पशु प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जा रहा है। इसके माध्यम से किसानों को भारतीय नस्ल की गउएं को प्रदर्शित किया गया है। उन्होंने कहा कि मेले में लगाई गई गो मंडी हिमाचल प्रदेश की अपनी तरह की पहली मंडी है, जिसके माध्यम से देशी नस्ल के गो पालन को न केवल बढ़ावा देना है बल्कि लोगों में देशी गो पालन को भी प्रोत्साहित करना है। इससे पहले मेला कमेटी की ओर से प्रधान पिपलू विपन शर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए मेले के आयोजन एवं इतिहास बारे प्रकाश डाला। वहीं, वीरेंद्र कंवर ने विभिन्न विभागों की विकासात्मक प्रदर्शनियों एवं पशु मंडी का भी शुभारंभ कर अवलोकन किया। वीरेंद्र कंवर ने ज्योति प्रज्वलित कर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आगाज किया। सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश के जाने-माने लोक गायक धीरज शर्मा ने अपने गीतों के माध्यम से उपस्थित श्रोताओं का जमकर मनोरंजन किया। इस बीच विभिन्न स्कूलों के बच्चों एवं स्थानीय कलाकारों ने भी दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। इस अवसर पर एसडीएम बंगाणा संजीव कुमार, मेला अधिकारी एवं तहसीलदार बंगाणा शमशेर सिंह, पशुपालन विभाग के निदेशक डा. सुदेश चौधरी, राजेश्वर चंदेल, डीएफओ यशुदीप सिंह, जिला पंचायत अधिकारी रमन शर्मा, पीओ डीआरडीए राजेंद्र गौतम, बीडीओ सोनू गोयल, जिला परिषद सदस्य इंदु बाला, कुटलैहड़ भाजपा मंडलाध्यक्ष मनोहर लाल, मंडल महामंत्री चरणजीत शर्मा, कैप्टन प्रीतम डढ़वाल, पिपलू प्रधान विपन कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

You might also like