पीएम आवास योजना में ढील देने की मांग

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने उठाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग

चंडीगढ़-पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की शर्तों में ढील देने के लिए  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी निजी दखलअंदाजी की मांग की, जिससे योजना के घेरे में और ज्यादा ग्रामीण क्षेत्रों के गरीबों को लाया जा सके। प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा कि एसईसीसी के अंतर्गत कच्चे मकान की परिभाषा बहुत सीमित रह जाती है। निष्कर्ष के तौर पर पंजाब के ग्रामीण क्षेत्रों के बहुत से गरीब और योग्य परिवार इस स्कीम के लाभ से वंचित रह जाते हैं। उन्होंने कहा कि स्कीम की शर्तों में तबदीली के उपरांत पंजाब की जमीनी हालातों के मुताबिक इस गरीब समर्थकी स्कीम का लाभ अधिक से अधिक योग्य परिवारों तक पहुंचेगा। प्रधानमंत्री के साथ पहली सितंबर 2018 को हुई मीटिंग का जिक्र करते हुए कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने कहा कि उस समय प्रधानमंत्री ने पंजाब में स्कीम के निम्र स्तर के प्रदर्शन का जिक्र किया था। उन्होंने कहा कि सिर्फ  नौ महीनों में ही पंजाब का रैंक बहुत सुधरा है, जो पहले 25 था, अब तीसरा आ गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार इस काम को जारी रखते हुए हर ग्रामीण गरीब परिवार को पक्का घर मुहैया करवाएगी। उन्होंने कहा कि सीमित किस्म के नियमों के कारण बड़े स्तर पर गरीब परिवार इस स्कीम का लाभ लेने से वंचित रह गए हैं। इस समस्या के हल के लिए मुख्यमंत्री ने कच्चे घर की एक उपयुक्त परिभाषा की सलाह देते हुए कहा कि मौजूदा नियमों में पक्की ईंटों और लकड़ी के बाले भी शामिल किये जाने चाहिएं जो कि स्कीम के घेरे की शर्तों में नहीं हैं।

You might also like