पीडब्ल्यूडी में अलग आईटी विंग

विधानसभा निदेशक धर्मेश को सलाहकार की जिम्मेदारी

 शिमला —प्रदेश सरकार लोक निर्माण विभाग का काम सूचना प्रौद्योगिकी के माध्यम से आसान बनाना चाहती है। इसके लिए आने वाले दिनों में आईटी का अलग से विंग यहां स्थापित होगा। इस विंग को खड़ा करने और इसके अधीन छोटी इकाइयों का गठन करने की सोची गई है। इस सोच के चलते प्रदेश सरकार की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने प्रदेश विधानसभा में निदेशक धर्मेश कुमार शर्मा को लोक निर्माण विभाग के सलाहकार (आईटी) का अतिरिक्त कार्यभार देने की इजाजत दे दी है। उनकी अनुमति से यहां राज्य सरकार ने भी अधिसूचना जारी कर उन्हें तैनाती दे दी है। धर्मेश शर्मा भारत सरकार के एनआईसी में वरिष्ठ तकनीकी निदेशक पद पर हैं। उन्हें सलाहकार (आईटी) के रूप में नामित करने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री से सिफारिश की गई थी। सलाहकार (आईटी) के कार्यों के लिए दिशा-निर्देश प्रदेश सरकार द्वारा जारी कर दिए गए हैं, जिसमें विभाग के सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी का मुख्यालय पर विंग एवं निचले विभिन्न स्तरों पर सैल के गठन के बारे में भी दिशा-निर्देश हैं, ताकि लोक निर्माण विभाग का पूर्ण रूप से स्वचालन सफलतापूर्वक हो सके। धर्मेश कुमार शर्मा बिलासपुर जिले से हैं और प्रदेश विश्वविद्यालय से गोल्ड मेडलिस्ट (प्री-इंजीनियरिंग) की ख्याति भी प्राप्त हैं। उन्होंने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान इलाहाबाद से कम्प्यूटर इंजीनियरिंग की है। हिमाचल प्रदेश में ई-गवर्नेंस की कई परियोजनाओं के सफल संचालन के लिए उन्हें कई राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्राप्त हुए हैं।

You might also like