पुलिया टूटने से 80 गांवों की थमी जिंदगी

थानाकलां -उपमंडल बंगाणा के तहत जोगीपंगा-अघलोर सड़क पर जोगीपंगा मंदिर के समीप पुलिया टूट जाने से करीब 80 गांव प्रभावित हुए हैं। उक्त पुलिया के टूटने से 80 गांवों के लोगों की आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गई है। लोगों को आवाजाही के लिए भारी परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। उक्त पुलिया के टूट जाने से मंगलवार को स्कूल पहंुचने वाले बच्चों के साथ-साथ अपने कामकाज पर पहंुचने वाले लोगों को काफी परेशानी हुई। लोगों को अपने गंतव्य तक पहंुचने के लिए वाया थानाकलां होकर करीब 25 किलोमीटर का अधिक सफर तय करना पड़ा। वहीं, विभाग ने वैकल्पिक मार्ग बनाना शुरू कर दिया, लेकिन अभी तक वाहन निकलने योग्य रास्ता नहीं होने से वाहन चालकों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा रहा है। उक्त पुली करीब 45 वर्ष पहले बनाई गई है। पुलिया करीब 80 गांवों के लोगों के लिए आवाजाही का सरल मार्ग थी। उक्त पुलिया से रोजाना छोटे-बडे़ सैकड़ों वाहन निकलते है। सोमवार को देर सायं कोई भारी लोडेड वाहन गुजरने से पुली टूट गई थी। इस दौरान पुलिया के इस पार और दूसरी तरफ वाहनों की लंबी-लंबी कतारे लग गई थी। ऊपर से रात का समय होने के चलते वाहन चालकों को वाया थाकाकलां होकर करीब 25 किलोमीटर का अधिक सफर तय कर अपने गंतव्य स्थानों पर पहंुचना पड़ा। वहीं, मंगलवार सुबह भी पुलिया टूटने से अनभिज्ञ लोग इस मार्ग से निकले तो पुलिया टूटी देख काफी परेशान हुए। इसके बाद लोगों को अन्य मार्गों से होकर निकलना पड़ा। बहरहाल अभी तक पुलिया दुरुस्त नहीं हो पाई है। उधर, स्थानीय लोगों दर्शन सिंह, रूप लाल, जनक राज, बतन चंद, शीला देवी, देवराज, आदि ने सरकार व प्रशासन से आग्रह किया है कि जल्दी से पुलिया का कार्य करवाया जाए, ताकि लोगों को आवाजाही में कोई दिक्कत न हो। इस संबंध में पीडब्ल्यूडी विभाग के एक्सईएन आरएस कालिया ने बताया कि जल्द पुललिया को बनाया जाएगा। वहीं, पुलिया टूटने से सनहाल, टीहरा, बल्ह, छपरोह, बुढवार, मंदली, डोहक, डोह, बराल, पट्टी, खोली, सकौन, टांडा, झारखड़ अगलौर, रायपुर मैदान, प्रोइयां, कोलका सहित करीब 80 गांवों के लोग प्रभावित हुए है। अब उक्त गावों के लोगों को अन्य रास्तों से होकर सफर करना पड़ रहा है। इससे लोगों को 20 से 25 किलोमीटर का अधिक सफर तय करने को मजबूर होना पड़ रहा है।

 

You might also like