पूर्व फौजियों को ठगने की चाल

पेंशन रिवाइज करने के नाम पर फेक फार्म, रक्षा पेंशन विभाग ने सिरे से खारिज की योजना

  हमीरपुर -रक्षा पेंशन वितरण विभाग (डीपीडीओ) से पेंशन ले रहे हजारों पूर्व रक्षा पेंशनर्ज धोखाधड़ी का शिकार हो सकते हैं। इनको अपने जाल में फंसाने के लिए जालसाजों ने फेक फार्म का सहारा लिया है। एक फेक फार्म निकाला गया है, जिसमें कहा गया है कि आपकी पेंशन रिवाइज्ड होगी। इसके लिए आपको अपनी डिटेल फार्म में भरकर ऑनलाइन ही जमा करवानी होगी, जिस भी साइट पर ये फार्म चल रहा है, उसी में इसे ऑनलाइन सबमिट करवाने के लिए कहा गया है। फार्म में पेंशनरों से पैन कार्ड, आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, बैंक डिटेल, पेंशनर अकाउंट नंबर, आईएफएससी कोड, बीएसआर कोड, बैंक कोड, बैंक का नाम, बैंक का पूरा एडे्रस, पीपीओ नंबर मांगा गया है। इन सभी शर्तों के लिए फार्म में अलग-अलग कॉलम निर्धारित हैं। विभागीय अधिकारियों ने माना कि उनके पास इस तरह की पूछताछ के लिए पेंशनरों ने फोन कॉल की है। सूत्रों की मानें, तो कई पूर्व रक्षा पेंशनरों ने अपनी सारी डिटेल भरकर किसी साइट पर अपलोड करवा दी है। हालांकि जब पता चला कि ये फार्म फेक है, तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। अब उन्हें चिंता सता रही है कि कहीं उनके साथ कोई धोखाधड़ी न हो जाए। बता दें कि पूर्व सैनिकों के बैंक खातों से पैसा उड़ाने संबंधी मामले हर जगह से सामने आ चुके हैं।

फार्म में एजेंसी-विभाग का नाम नहीं

फेक फार्म में कहीं पर भी फार्म जारी करने वाली एजेंसी या विभाग का नाम अंकित नहीं है। सिर्फ पेंशनर को ही अपनी सारी डिटेल भरने के लिए कहा गया है। हालांकि रक्षा पेंशन वितरण विभाग ने इस तरह की स्कीम को सिरे से खारिज किया है। विभाग का कहना है कि रक्षा मंत्रालय से इस तरह की कोई अधिसूचना जारी नहीं हुई है। अगर कोई योजना होती, तो सबसे पहले विभाग के पास नोटिफिकेशन पहुंचती।

You might also like